Anita Singh

Msc,B.Ed,बचपन से ही पढ़ने लिखने का शौक है कॉलेज के जमाने से ही लेख कविता और कहानियां लिख रही हूं मुझे सामाजिक मुद्दों पर लिखना पसंद है अपनी कहानियों के माध्यम से समाज में पॉजिटिव बदलाव लाना चाहती हूं।

Voice of Anita Singh

पति का आपको एटीएम कार्ड देना, क्या इसमें आपकी आर्थिक आज़ादी है?

ना जाने कितनी औरतों की कहानी शुभी और कनक जैसी है, जिनके पति उनको एटीएम कार्ड तो देते हैं लेकिन उस एटीएम कार्ड को इस्तेमाल करने की आज़ादी नहीं देते।

टिप्पणी देखें ( 0 )
रिश्ते पकने में थोड़ा टाइम तो लगता है, इसलिए ज़्यादा परेशान ना हो!

सुन छोटी, रिश्ते पकने में टाइम लगता है, इसलिये इन छोटी-छोटी बातों पर ध्यान मत दे। अब औरतें भी फ्रीडम चाहती हैं और कभी-कभी बहुत ज़्यादा केयर भी बुरी लगती है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
भाइयों के रिश्ते टूटने का कारण क्या हमेशा बहु होती है?

बाहर से आई लड़की क्या लड़के को सिखा सकती है? क्या लड़के में अपनी बुद्धि नहीं होती है? वो क्या एक छोटा बच्चा है जो उसे सिखाया जा सके?

टिप्पणी देखें ( 0 )
परिवार की अहमियत – दूरियाँ नज़दीकियाँ बन गईं

रमेश को ये जिंदगी ज़्यादा अच्छी लगने लगी। उसने रेखा से कहा, "अब तो सब ठीक हो गया है। अब तो अपने घर चलो।"

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?