कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

बच्चों में डायबिटीज या शुगर होने के लक्षण क्या हैं?

जुवेनाइल डायबिटीज के मामले बढ़ रहे हैं और ये बहुत जरुरी हो गया है कि सही इलाज के लिए हम अपने बच्चों में शुगर होने के लक्षण पहचानें। 

जुवेनाइल डायबिटीज के मामले बढ़ रहे हैं और ये बहुत जरुरी हो गया है कि सही इलाज के लिए हम अपने बच्चों में शुगर होने के लक्षण पहचानें। 

एक माँ के लिये सबसे ज़रुरी उनके बच्चों का स्वास्थ्य होता है। दो बच्चों की माँ होने के नाते मैं और मेरी ही तरह हर माँ अपने बच्चे को हमेशा स्वस्थ ही देखना चाहती है।

लेकिन आज के बदले माहौल में जहाँ घर के सादे और पौष्टिक खाने की जगह जंक फूड ने लिया हो और खेल के मैदान में भाग दौड़ की जगह ढेरों वीडियो गेम्स ने, तो ये बहुत लाजमी है कि इसका सीधा असर बच्चों के स्वास्थ्य पे आयेगा ही।

घंटो टीवी और मोबाइल के आगे जमे रहने और बर्गर, पिज़्ज़ा, फ्रेंच फ्राई जैसे फ़ास्ट फूड के अधिक सेवन ने बच्चों को मोटापा और मधुमेह जिसे आम भाषा में शुगर या डाइबिटीज़ भी कहते हैं, जैसी गंभीर बीमारी ने जकड़ लिया है।

याद कीजिये अपना बचपन जहाँ मधुमेह की बीमारी ज्यादातर बुजुर्गो में ही देखने को मिलती थी, शायद ही बच्चे मधुमेह से पीड़ित दिखते थे। बच्चे घर का खाना खाते और दिन भर भाग दौड़ करते फिर चाहे धूप, बारिश या ठण्ड हर मौसम में खेलते और शायद ही कभी बीमार पड़ते।

लेकिन आज परिस्थिति बदल चुकी है। मधुमेह और मोटापा हमारे आधुनिक समाज के दुष्परिणाम के रूप में दिखाई दे रहे हैं।

छोटे गोल मटोल बच्चे दिखने में बहुत प्यारे लगते है। लेकिन यही बेबी फैट आगे चल कर मोटापा और मधुमेह जैसी बीमारियों के कारण बन जाते है। अगर आप भी बच्चों में होने वाले मोटापे और मधुमेह की समस्या से परेशान है तो ये पोस्ट आपके लिये ही है।

आईये जाने क्यों होती है बच्चों में ऐसी समस्या और कैसे इनसे बचा जा सकता है।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

मधुमेह या डायबिटीज क्या होती है?

शरीर में इन्सुलिन कम बनने की समस्या को डायबटीज़ कहते है। यह समस्या जब बच्चों में होती है तो जुवेनाइल डायबटीज़ कहलाती है।

इसे टाइप -1 डायबटीज़ या इन्सुलिन डिपेंडेंट डायबटीज़ भी कहते है। ये विशेष कर 18 साल के कम उम्र के बच्चों में जन्म से या उम्र बढ़ने के साथ होती है। कई बार ये अनुवांशिक तो कई बार ये गलत खानपान और कम शारीरिक गतिविधि के फलस्वरूप बच्चों में है।

बच्चों में ज्यादातर टाइप -1 डायबटीज़ की समस्या देखी जाती है, जो कई बार बहुत कम उम्र यानि 5 वर्ष से कम उम्र में भी देखने को मिल जाती है। विशेषज्ञो के अनुसार हर साल करीब 10-15 हजार बच्चों में डायबटीज़ का ईलाज किया जाता है, जो की स्वं में एक बेहद चौंकाने वाला आकड़ा है।

बच्चों में डायबिटीज के प्रकार

बड़ो की तरह बच्चों में भी डायबटीज़ के दो प्रकार होते है:

  • टाइप- 1 डायबटीज़टाइप 1 डायबटीज़ में पेन्क्रियाज इन्सुलिन नहीं बना पता। इन्सुलिन शरीर के लिये बेहद जरुरी होता है। खाने से मिलने वाले शुगर को ये सेल तक पहुंचाने का काम करता है जिससे शरीर को एनर्जी मिल सके। इन्सुलिन ना बनने से खून में शुगर लेवल बढ़ जाता है और डायबटीज़ की समस्या शुरू हो जाती है।
  • टाइप- 2 डायबटीज़ -टाइप 2 डायबटीज़ में पेन्क्रियाज बहुत कम मात्रा में इन्सुलिन का निर्माण करता है। ऐसे में खून में शुगर की मात्रा बढ़ती चली जाती है और डायबटीज़ की परेशानी हो जाती है।

बच्चों में शुगर के कारण

कम आउटडोर एक्टिविटी और फ़ास्ट फूड खाने के बढ़ते चलन से होने वाले मोटापे के कारण बच्चों में इन्सुलिन रेसिस्टेंट की संभावना बढ़ जाती है। यही कारण है की बच्चों में डायबटीज़ का प्रमुख कारण मोटापा माना जाता है।

विशेषज्ञों की माने तो बच्चों के शरीर में बढ़ने वाले ब्लड शुगर लेवल गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनता है जैसे ह्रदय रोग, आईज डैमेज (अंधापन ) या किडनी फेलियर तक हो जाती है।

बच्चों में शुगर या डायबिटीज होने के लक्षण

कई बार ऐसा होता है की या तो बच्चों में ये लक्षण समझ ही नहीं आते या फिर कई बार ये लक्षण इतने धीरे विकसित होते है की इस लक्षण का समय पे पता ही नहीं चलता।

इस संदर्भ में विशेषज्ञ कहते है की यदि आपका बच्चा भी मोटापे से ग्रसित है, तो निम्न कुछ लक्षणों पे नज़र रखे जाना चाहिए जिससे पता चले कि बच्चे को डायबिटीज है या नहीं।

  • अत्यधिक थकान – अच्छी नींद और कम शारीरिक गतिविधि होने पे भी यदि बच्चा बहुत थक जाये तो ये डायबटीज़ का लक्षण हो सकते है।
  • बार बार यूरिन पास करना – जब शरीर में शुगर की मात्रा बढ़ती है तब बार बार यूरिन पास करने की इच्छा होती है। अगर बच्चा घर या स्कूल में बार बार बाथरूम भागे तो ये डायबटीज़ का एक संकेत हो सकता है।
  • अधिक प्यास लगना – मीठा खाने के बाद अकसर हमें पानी पीने की इच्छा होती है या फिर तेज़ प्यास लगती है। ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि शरीर में बल्ड शुगर लेवल अधिक हो जाता है। यही कारण है की जिन बच्चों को डॉयबटीज है उन्हें प्यास अधिक लगती है।
  • भूख में वृद्धि – डॉयबटीज वाले बच्चों के शरीर में इन्सुलिन का निर्माण कम या बिलकुल नहीं होता। ऐसे में शारीरिक गतिविधि में लगने वाली ऊर्जा के लिये खाना ही मुख्य स्रोत बन जाता है।यही कारण है की बच्चों को जल्दी भूख लगती है।ऐसी स्तिथि को विशेषज्ञो द्वारा पॉलीफेगिया या हाइपरफेगिया कहा जाता है.
  • घाव का धीमा भरना – बच्चों के शरीर पे लगी कोई चोट या घाव भरने में यदि अधिक समय लग रहा है तो ये भी डॉयबटीज के लक्षण हो सकते है।
  • त्वचा के रंग का काला होना – इन्सुलिन रेसिस्टेन्स त्वचा के रंग को काला करती है ख़ास कर गर्दन और अंदर आर्म्स पे इसका प्रभाव दिखता है। यदि आपके बच्चे के इन हिस्सों का रंग गहरा होता जा रहा है तो ये समय है सचेत होने का।

बच्चों में डायबिटीज या शुगर होने के लक्षण दिखने के बाद क्या करें

बच्चों में डायबिटीज़ के लक्षण दिखने के बाद सबसे पहले चिकित्सक से संपर्क कर बच्चे का शुगर लेवल की जाँच करवाये।और यदि बच्चे में टाइप -1 डायबिटीज़ पाया जाता है तो डॉक्टर द्वारा दी गई दवाई और सुझाव के साथ साथ बच्चों के लाइफ स्टाइल में भी बदलाव करे। साथ ही खान पान की आदतों में भी बदलाव जरुरी है।

बच्चों को डायबिटीज़ से बचाने के लिये क्या करें

  • समय पे पौष्टिक खाना दें
  • बच्चों को एक्टिव रखें
  • ज्यादा मीठा ना दें
  • बच्चों का वजन नियंत्रण में रखें
  • ज्यादा आउटडोर एक्टिविटी करवायें
  • नियमित व्यायाम करना सिखायें
  • पत्तेदार सब्जियाँ, फल और अंकुरित अनाज का अधिक सेवन
  • फ़ास्ट फूड और कोल्ड ड्रिंक का सेवन बंद करें

डायबिटीज़ के ईलाज

डायबटीज़ एक ऐसा रोग है जिससे पूरी तरह छुटकारा संभव नहीं लेकिन आदतों में बदलवा कर एक स्वस्थ जीवन जिया जा सकता है। एक बार डायबटीज़ का पता चलने पे जीवन भर इसका ईलाज करवाना पड़ सकता है।

बच्चों को इन्सुलिन का इंजेक्शन जीवन भर भी लेन पर सकता है। ब्लड में शुगर लेवल ज्यादा है तो दिन में दो तीन बार भी लेना पर सकता है। आज कल इन्सुलिन पंप या आर्टिफिशल पेन्क्रियाज भी मिलते है और कई बार बिना इंजेक्शन के भी इन्सुलिन की दवा दी जाती है।

माता पिता की जिम्मेदारी

जैसे एक मजबूत नींव ही मजबूत ईमारत का आधार होती है, वैसे ही स्वस्थ बच्चे समाज के विकास का आधार होते है। आधुनिकता के इस दौड़ में हम माता पिता बच्चों को पैकेट फूड और मोबाइल थमा अपनी जिम्मेदारी निभा देते है, बिना इसके दुष्परिणाम जानें।

जिस तरह जुवेनाइल डायबिटीज़ के मामले बढ़ रहे हैं और बच्चे इसके चपेट में आ रहे हैं, ये बहुत जरुरी हो गया है कि अब माता-पिता अपनी जिम्मेदारी समझें और बच्चों को समय पे घर का बना पौष्टिक खाना और खुब सारी आउटडोर एक्टिविटी करवायें।

सबसे महत्वपूर्ण कार्य ये है माता पिता बच्चों के लिये समय निकालें। अगर बच्चों में शुगर होने के लक्षण दिख रहे हैं और उसे डायबिटीज़ है तो उसका मनोबल बढ़ायें, उसे हैल्दी लाइफ़ स्टाइल के बारे में समझायें। साथ ही बच्चों को मोबाईल और टीवी की दुनियां से बाहर निकाल खेल के मैदान की ओर ले जायें, जिससे बच्चों के एक स्वस्थ और सुखद भविष्य का निर्माण हो सके। आखिर स्वस्थ बच्चे ही देश और समाज का भविष्य होते हैं।

डिस्कलेमर : ये एक्सपर्ट राय नहीं है। ज़रुरत पड़ने पर अपने डॉक्टर की राय लेना न भुलें।

मूल चित्र: via ucsf.edu 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

164 Posts | 3,774,697 Views
All Categories