कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

‘ये महामारी है कोई फैशन वीक नहीं!’ शोभा डे की इस बात से मैं सहमत हूँ और आप?

"ये वक्त फोटोज़ शेयर करने का नहीं है क्योंकि ना तो फैशन वीक चल रहा है और ना ही किंगफिशर कैलेंडर का शूट", शोभा डे ने सेलिब्रिटीज से कहा। 

“ये वक्त फोटोज़ शेयर करने का नहीं है क्योंकि ना तो फैशन वीक चल रहा है और ना ही किंगफिशर कैलेंडर का शूट”, शोभा डे ने सेलिब्रिटीज से कहा। 

शोभा डे उन जानी-मानी लेखिकाओं में से हैं जो अपने बेबाक मिजाज़ से कई बार विवादों में आ जाती हैं लेकिन वो अपनी बात ज़रूर कहती हैं।

उनका मानना है कि लोकतंत्र में हर नागरिक को अपनी बात रखने का अधिकार है वो भी बिना डरे। इस बार उन्होंने देश में फैली कोरोना की महामारी पर अपनी बात रखी है।

दुनिया भर में कोरोना से बुरा हाल है। भारत में हज़ारों की तादाद में लोग वैक्सीनेशन और ऑक्सीज़न की कमी के कारण मर रहे हैं। महाराष्ट्र और दिल्ली जैसे महानगरों में तो फिर से लॉकडाउन लग गया है।

सरकार क्या कर रही है, किसी को पता नहीं। पिछले एक साल में पुख्ता इंतज़ाम क्यों नहीं किए गए कोई नहीं जानता, ऑक्सीज़न की कमी से लोग कब तक यूं ही मरते रहेंगे इसका जवाब भी किसी के पास नहीं है।

देश के इन बुरे हालातों के बीच बॉलीवुड के कई स्टार्स मुंबई से दूर मालदीव, गोवा और विदेशों में वैकेशन्स मनाने निकल गए हैं। सोशल मीडिया पर आपने बहुत तस्वीरें देखी भी ली होंगी। लेकिन शोभा डे को स्टार्स की ये बात रास नहीं आई।

अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शोभा डे ने  रोहिणी अय्यर की एक पोस्ट को साझा किया है

“वो सभी लोग जो इस वक्त गोवा और मालदीव में आलीशन ढंग से छुट्टियां मना रहे हैं, मैं उन्हें बता दूं कि ये आपके लिए छुट्टी है लेकिन बाकी लोगों के लिए महामारी का दौर है। इसलिए कृपया इतना असंवेदनशील ना बनें और अपनी ऐश-ओ-आराम की तस्वीरें सोशल मीडिया पर डालना बंद करें।

ऐसा कर के आप खुद को अंधा और बहरा साबित कर रहे हैं। ये आपके इंस्टाग्राम नंबर्स को बूस्ट करने का करने का समय नहीं है। ये समय लोगों की मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाने का है। अगर आप लोग ऐसा नहीं कर सकते हैं तो कम से कम शांत हो जाएं या अपने घर पर रहें।

ये वक्त फोटोज़ शेयर करने का नहीं है क्योंकि ना तो फैशन वीक चल रहा है और ना ही किंगफिशर कैलेंडर का शूट।”

शोभा डे ने इस पोस्ट की सराहना करते हुए लिखा

शोभा डे इस पोस्ट की तारीफ की और कहा,  “हैलो, सुनिए, मैं इस पोस्ट को आप सभी के साथ साझा करना चाहती थी। मैं चाहती हूं ये मैसेज सभी तक पहुंचे। रोहिणी अय्यर आपने बखूबी अपनी बात कही है। इस मुश्किल वक्त में ऐसी तस्वीरें शेयर कर घिनौनेपन की हद पार कर दी गई है। आपको एंजॉय करना है करिए। आप लोग बहुत खुशकिस्मत हैं कि आपको ब्रेक लेने के मौका मिल रहा है। आप जो भी करें प्राइवेटली करें, इस वक्त प्रदर्शन ना करें।”

कोरोना से देश में हो रहे बुरे हालातों को लेकर शोभा डे ने सरकार को भी लताड़ लगाते हुए उन्होंने एक तस्वीर पोस्ट की जिसके कैप्शन में उन्होंने लिखा है कि प्रधानमंत्री की 20 मिनट की स्पीच का सार है, ‘अपना-अपना देख लो, सरकार कुछ नहीं कर सकती।’

कोरोना से जुड़ी एक और पोस्ट में वो लोगों को इनहेलेशन के बारे में बता रही हैं। वो कहती हैं कि हम उस ब्रेकिंग प्वाइंट पर पहुंच गए हैं जहां कोई नहीं जानता की आगे क्या होने वाला है। इसलिए इस बारे में सोचने का कोई फायदा नहीं है। हम जो अपनी सेहत के लिए कर सकते हैं हमें करना चाहिए। रिकनेक्ट करिए और अपनों से बात करिए।

शोभा की इस पोस्ट पर कई लोगों ने उनकी तरफ़दारी की है।

शोभा डे की बात कहीं ना कहीं मुझे भी सही लगती है

शोभा डे की बात कहीं ना कहीं मुझे भी सही लगती है।

हां, आप अच्छा वक्त गुज़ारें उससे कोई परेशानी नहीं है लेकिन अगर आप किसी की मदद नहीं कर सकते तो कम से कम फिलहाल के लिए अफनी लाइफ़ प्राइवेट रख सकते हैं। वैसे भी स्टार्स को लगता है कि उनकी लाइफ प्राइवेट नहीं है और वो हमेशा पैपराज़ी से घिरे रहते हैं। तो फिर कुछ वक्त के लिए अपनी ज़िंदगी को पर्सनल रखा जा सकता है। आपका क्या कहना है?

शोभा डे के बारे में

महराष्ट्र में पैदा हुई शोभा डे स्कूल के दिनों में स्टेट लेवल एथलीट भी रही हैं। उन्होंने 1970 में पत्रकारिता को अपना करियर बनाया और कई मैगज़ीन और फिल्मी पत्रिकाओं में लिखा। स्टारडस्ट मैगज़ीन की एडिटर वही थीं।

उन्होंने स्वाभिमान जैसे सीरियल्स की स्क्रिप्ट भी लिखी हैं और भी बहुत कुछ। अपने सोशल मीडिया पर वो बहुत एक्टिव रहती हैं और ज़रूरी मुद्दों पर अपनी बात रखती हैं। आज कल वो कई अख़बारों में साप्ताहिक कॉलम लिखती हैं। उन्होंने ढेर सारी किताबें लिखी हैं, सेठ जी, स्टारी नाइट, स्नैपशॉट, सेकेंट थॉट्स वगैरह। वो करंट मुद्दों और समस्याओं पर सीधे और सटीक शब्दों में अपनी बात कहती हैं जैसे उन्होंने इस बार की है।

कोरोना का वक्त मुश्किल है इसलिए एक-दूसरे का साथ दीजिए और अपने स्वास्थ्य का ख़्याल ज़रूर रखिए।

मूल चित्र : Shobha De, Instagram

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

About the Author

133 Posts | 485,979 Views
All Categories