कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

तुम्हारी माँ वर्किंग वुमन नहीं थी लेकिन फिर भी…

Posted: अप्रैल 22, 2021

तुमने जब भी कभी सुबह जल्दी उठा देने को कहा, उसने पूरी रात आँखों में काट, हमेशा अलार्म को बजने से पहले ही बंद किया और तुम कहते हो कि…

स्कूल से घर लौटने पर,
उसे दरवाजे पर न पाकर,
जब तुमने कहा,
जब भी कभी कहीं से घर आऊं,
तुम घर पर ही मिला करो न माँ!
उस दिन से वो भागती-हाँफती,
बाजार हाट कर सब्जी-भाजी,
सौदा-नमक ला सारे काम निपटाती,
तुम्हें घर के दरवाजे पर,
तुम्हारी बाट देखती ही मिली!

उसने बड़े चाव से,
एक सलवार सूट सिलवाया,
तुमने देख कर मुंह बिचकाया,
मनुहार से गलबहियाँ कर,
गाल पर मीठी पुच्ची दे,
फरमान सुनाया,
माँ तुम तो बस साड़ी में ही अच्छी लगती हो,
और उसने पूरी उम्र साड़ियों में उलझ कर,
हँसते-हँसते काट ली!

उसने गुईयां की सब्जी बड़े चाव से,
बनाई कि बचपन से खूब भाती उसे,
तुमने जब कहा मुझे नहीं भाती,
उसकी जीभ ने गुईयां का स्वाद,
बड़ी ही बेरहमी से भुला डाला!

तुमने जब भी कभी सुबह जल्दी उठा देने को कहा,
उसने पूरी रात आँखों में काट,
हमेशा अलार्म को बजने से पहले ही बंद किया!

उसने कहा अब घुटनों से चला नहीं जाता,
तुमने कहा कहाँ माँ? तुम तो झूठ बोलती हो,
सही तो चलती हो,
उसने फिर कभी सच नहीं कहा,
और तुम्हारे सच का मान रखने,
चलते हाथ-पैर ही दुनिया छोड़ गई!

तुमने उससे जो भी कहा,
उसने वो सब सहर्ष सहा!

और तुम कहते हो कि
ड्रैसकोड, पंक्चुएलिटी और डैडिकेशन,
केवल वर्किंग वुमैन ही फालो करती हैं!

मूल चित्र : Still from the Short Film, Pressure Cooker, YouTube

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020