कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

जब वो कुछ नहीं करती तब वो कुछ ऐसा करती है…

जब वो कुछ नहीं करती तब वो अपनी माँ को फोन करती है और पूछती है कि वे सारी उमर घर पर खाली बैठी आज तक बोर क्यों नहीं हुई!

जब वो कुछ नहीं करती तब वो अपनी माँ को फोन करती है और पूछती है कि वे सारी उमर घर पर खाली बैठी आज तक बोर क्यों नहीं हुई!

जब वो कुछ नहीं करती
तब वो रसोई की
मसालेदानी को दुलार-बुहार
उसके जख्मों से नमक हटा
उसे धूप में सुखाती है!

जब वो कुछ नहीं करती
तब वो रुमालों की तहों में सधकर
सो जाती है घड़ी भर झपकी लेने!

जब वो कुछ नहीं करती
तब वो उधड़े मन को सलाई में पिरो
बना देती है पड़ोस के बिट्टू का टोपा!

जब वो कुछ नहीं करती
तब बंद कमरे में पंजों के बल खड़ी होकर
नापती है अपनी कूद की ऊँचाई जो बचपन में
रस्सी कूदने पर नाप लिया करती थी!

जब वो कुछ नहीं करती
तब वो पूछती है हाल
अलमारी में बिछे अखबार के नीचे पड़े
बिजली-पानी के बिल और
सौ रुपए के फटे-पुराने नोट के दिल का!

जब वो कुछ नहीं करती
तब वो पुचकारती है चुहिया को
जो पुराने संदूक में पड़े कपड़ों में
दर्जनभर बच्चे जन
निढाल पड़ी है!

जब वो कुछ नहीं करती
तब वो सीलन दीवार की
उखड़ी परतों में छिपे
अलग अलग रंगों से बतियाकर
बाँचती है हाल उन बीते दिनों का
जब हर बार घर का बदला ढंग
दीवारों पर नए रंग के साथ पहले रंग को
अपने रंग में रंग गया,
और याद करती है
शर्मसार होकर इन सब रंगों के पीछे छिपे
ईंटों और सीमेंट के भाव को जो
उसे पिता के दिए जेवरों का
डिजाईन याद दिला देता है!

Never miss real stories from India's women.

Register Now

जब वो कुछ नहीं करती
तो खंगालकर छाँटती है
अपनी उन जड़ों को
जिनकी पकड़ घर के आंगन से
ढीली पड़ गई है!

जब वो कुछ नहीं करती
तब वो अपनी माँ को फोन करती है,
और पूछती है कि वे सारी उमर
घर पर खाली बैठी
आज तक बोर क्यों नहीं हुई!

मूल चित्र : Pranav Kumar Jain via Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

98 Posts | 278,392 Views
All Categories