कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

कठघरे में हर बार हम ही खड़े थे…

Posted: अगस्त 22, 2020

विश्वास के क़त्ल को हम सह ना सके थे, अपनों से दग़ा खाकर ज़हर का घूँट हम पी रहे थे। इतने मजबूर थे की फिर भी हम जी रहे थे…

कठघरे में हर बार हम ही खड़े हुए थे!
जो क़सूरवार थे, वो बाहर हमदर्दी ले रहे थे।

देखकर तमाशा मेरा वो मुस्कुरा रहे थे!
जान देते थे जिनपर, वो अग़्यार बने हमें देख रहे थे।

गुनहगार हम को ठहराकर सब के हमदर्द वो बने रहे थे!
मौत के फ़रमान का अफ़सोस नहीं था हमें।

विश्वास के क़त्ल को हम सह ना सके थे!
अपनों से दग़ा खाकर ज़हर का घूँट हम पी रहे थे।

इतने मजबूर थे की फिर भी हम जी रहे थे!

इतने मजबूर थे की फिर भी हम जी रहे थे…

मूल चित्र : Pexels

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020