कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

मन भर प्रेम से मन ना भरने देना …

प्यार या प्रेम , कभी भी केवल मन निर्धारित नहीं करता , इसमें आत्मा भी शामिल होती है, ऐसा होने से मन का प्रेम दीर्घायु रहेगा। 

प्यार या प्रेम , कभी भी केवल मन निर्धारित नहीं करता , इसमें आत्मा भी शामिल होती है, ऐसा होने से मन का प्रेम दीर्घायु रहेगा। 

जब मन में प्रेम भर जाता है,
तब क्यों अचानक एक दिन
प्रेम से मन भर जाता है?

जब मन भर प्रेम किया तब नहीं सोचा?
फिर अब अचानक क्यों प्रेम से मनभर लिया?
मन की सुनना अच्छी बात है,
लेकिन मन के चक्कर में पड़कर
क्यों प्रेम कर लिया?

और जब कर ही लिया था
फिर मन क्यों भर लिया ?
मन भर प्रेम करने के बाद
उससे मन कभी न भरने देना!

मूल चित्र : Pexels 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

98 Posts | 278,512 Views
All Categories