कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

अनुभवों के किस्से : पापा आपके हाथ की लकीरें

Posted: April 30, 2020

तुम भाग्यशाली हो यदि पिता के ये हाथ तुम्हारे साथ हैं और इन हाथों की लकीरों में छिपे किस्सों को पढ़कर सदा के लिए अपने दिल में सहेज कर रखना। 

कभी मौका मिले तो किसी अधेड़ उम्र पिता के हाथों को गौर से देखिएगा।
हाथों पर पड़ी लकीरें न जाने कितने ही अनगिनत, अनकहे किस्से-कहानियां अपने भीतर समेटे रहती हैं , उन्हे पढ़ने,सुनने और समझने की कोशिश करना।

वे कहानी सुनाएंगी कि पिता कैसे-कैसे कठिन दौर से परिवार को सही सलामत लौटा लाए हैं !

वे कहानी सुनाएंगीं कि तुम्हें मेले भेजकर खुद आने वाले कल की चिंता में न जाने कितने ही घंटे वीरानों में पड़े सोचते रहे हैं !

वे कहानियां सुनाएंगीं कि जब-जब मुसीबतों भरी आँधियां घर-परिवार पर मंडरा रही थीं तब वे अपने बाजुओं में शक्ति और दिल में विश्वास रखे डटे रहे कि तुम सुरक्षित रहो !

वे कहानियां सुनाएंगीं कि न जाने कितनी ही रातें फाकों में काटने को मजबूर होने पर भी तुम्हें उसकी भनक तक न लगने दी कि जब तुम्हारी थाली में 56 पकवान थे !

वे कहानियां सुनाएंगीं कि पूरी उम्र इन हाथों ने ही नाउम्मीदी में भी उम्मीदों और आस का दामन थामे रखा और परिवार की हिम्मत और हौसला बढाया !

वे कहानियां सुनाएंगी कि दिखने में कठोर हाथों वाले उस पिता का दिल बेहद ही नर्म और कोमल है !

वे कहानियां सुनाएंगीं कि परिवार को संघर्ष और कठिनाइयों से बचाने की खातिर ये हाथ सदा दीवार बन कर डटे रहे !

वे कहानियां सुनाएंगीं कि परिवार को सदा दुखों भरी बारिश से बचाने की खातिर ये हाथ सदा छाता बनकर स्वयं बेशक भीगते रहे लेकिन तुम पर दुखों की एक भी बूंद नहीं पड़ने दी !

वे कहानियां सुनाएंगी कि पिता ने इन्हीं हाथों से तुम्हारे जीवन की बगिया में फूल खिलाने की खातिर अपने खुद के सपनों के हिस्से वाली ज़मीन बंजर ही छोड़ दी !

तुम भाग्यशाली हो यदि पिता के ये हाथ तुम्हारे साथ हैं !
और इन हाथों की लकीरों में छिपे किस्सों को पढ़कर सदा के लिए अपने दिल में सहेज कर रखना कि तुम भी कुछ ऐसे ही किस्से लिख सको अपने हाथों पर !

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?