कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

स्वाति रावल – भारत की हर माँ का सलाम इस कोरोना योद्धा के नाम

Posted: मार्च 28, 2020

कोरोना योद्धा के रूप में स्वाति रावल एक अद्भुत मिसाल बनकर सामने आयीं और माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके इनकी तारीफ की और उन्हें बधाई दी।

हमारे देश में बहुत से कोरोना योद्धा हैं जो बेमिसाल काम कर रहें है इनकी जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है। ये न केवल अपनी जान जोखिम में डाल कर लोगों की सेवा में जुटे हुए हैं बल्कि इंसानियत की एक जीती जागती मिसाल भी हैं।

आजकल लोग कोरोना वायरस से इतना डरे हुए है कि इसके कारण लोग सर्दी-खांसी के मरीजों से भी मिलने में कतराते हैं। कोरोना योद्धा के रूप में हमारे देश की स्वाति रावल एक अद्भुत मिसाल बनकर सामने आई हैं। हमारे देश के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके स्वाति रावल की तारीफ की और उन्हें बधाई दी। स्वाति रावल हमारे देश में उन लड़कियों के लिए एक मिसाल है जो वास्तव में अपने देश का गर्व बनना चाहतीं है।

चलिए आपको बताते हैं स्‍वाति रावल के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें:

कोरोना के कारण विदेश में फंसे हुए भारतियों के लिए किसी एंजेल से कम नहीं है स्वाति

हमारे समाज में लोग आज भी लड़कियों को नाजुक समझते हैं। लेकिन, जब बात बहादुरी के काम करने की आती है, तब यही नाजुक लड़कियां लड़को को अपने से कहीं पीछे छोड़ देती हैं। इस बात की जीती जगती मिसाल हैं स्वाति रावल।

आज कोरोना वायरस का संक्रमण पूरी दुनिया में फैल चुका है। लोग कोरोना के डर से अपने घर से बाहर भी नहीं निकलते हैं। पर इस देश की बेटी स्वाति रावल उन देशो से भारतियों को बचाकर लाई जहां कोरोना वाइरस अपने पैर पसार चूका था। स्वाति ने अपनी टीम के साथ उन देशो में एंट्री की जहां कोरोना महामारी फैली हुई थी। सच में अद्भुत है स्वाति का साहस।

स्वाति एक कमांडर होने के साथ साथ पांच साल की बच्ची की माँ है। उन्होंने सच में एक माँ का फ़र्ज़ निभाया है और वो इटली से 263 भारतीय छात्रों को अपने साथ एयर इंडिया के विशेष विमान में लेकर भारत आयीं। इन छात्रों की थर्मल स्क्रीनिंग व इमिग्रेशन एयरपोर्ट पर की गयी, जिसके बाद इन सभी को आईटीबीपी छावला कैंप में क्वारेंटाइन फैसिलिटी के लिए भेजा गया।

इन छात्रों को बचाने का जो हौसला स्वाति रावल जी ने दिखाया है उस हौसले को मेरा ही नहीं बल्कि भारत की हर एक माँ और हर एक महिला का सलाम है। आप जैसी नारी ही हमारे देश का मान हैं आपको बार बार नमन।

मूल चित्र : Twitter/Youtube 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Shailja is a writer,blogger & a content curator by profession. A editor in collaboration with

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020