कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

हम चाहें तो इस नए साल में बहुत कुछ बदल सकते हैं, ज़रुरत है वो पहला कदम उठाने की!

Posted: January 2, 2020

तो नए साल से मिली इसी ढांढस की बंधी हुई पोटली खोलिए और निकाल लीजिए पिछले बरस के फटे, पुराने, उधड़े और बेरंग सपने और कीजिए उनकी छंटाई, रंगाई!

जनवरी 2020 यानी नया साल आ चुका है!

वैसे हर बार की तरह यह ‘नया साल’ जब भी आता है तब अपने साथ नई उम्मीदें और आशाएं लेकर आता है और हमारे भीतर दम तोड़ती ख्वाहिशों में फिर से प्राण फूंक जाता है!

देखा जाए तो इस नए साल में नया कुछ भी होता नहीं है! बस वही हाल, वही चाल, वही दुश्वारियां, वही लाचारियां, वही विवाद, वही संवाद, वही जिम्मेदारियां, वही नादानियां, वही त्यौहार, वही गीत, वही पकवान, वही अनुष्ठान, वही आसक्तियां, वही आपत्तियां, वही नज़रिया, वही खबरिया, वही दिन, वही रात, वही महीने, वही हफ्ते, वही घड़ियाँ और तो और वही तारीखें !

कुछ भी तो नहीं बदलता न!

लेकिन शायद एक चीज़ है जो बदलती है और वो है इस ‘वही’ को बदलने की चाह और जज़्बा ! वो चाह जो बीते साल में किसी विपरीत परिस्थितियों के चलते हमारे भीतर दम तोड़ गई थी!

हर 31 दिसंबर की रात नए साल के आगमन का शुभ समाचार देती घड़ी की सूईंयां जब 12:00 को पार कर जाती हैं तो चाहे-अनचाहे ही हमारे दिल की धड़कनों को बढ़ाकर हमारे भीतर एक ऐसा उत्साह और जोश भर जाती हैं जो हमें सब कुछ नए सिरे से शुरू कर पूरा करने का ढांढस बंधाता है!

तो नए साल से मिली इसी ढांढस की बंधी हुई पोटली खोलिए और निकाल लीजिए पिछले बरस के फटे, पुराने, उधड़े और बेरंग सपने और कीजिए उनकी छंटाई, रंगाई, तुरपाई और रफू ताकि उन्हें देखकर मायूस और निराश जीवन फिर से मुस्कुराने लगे!

नाउम्मीदियों के इस दौर में,
उम्मीदों भरा ख्याल मुबारक!

ख्वाहिशें जो दम तोड़ गई,
फिर से उनके ख्वाब मुबारक!

पहुंच न सके जहां वक्त के चलते,
उन लक्ष्यों की राह मुबारक!

बदलते रिश्तों के इस दौर में
मिले जो नए वो अपने मुबारक!

हाल-चाल तो क्या बदलेगा,
फिर भी हो नया साल मुबारक!

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?