कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

रानू मंडल के व्यवहार की बात छोड़िये, ये सोचिये कि इन पढ़े-लिखे लोगों को क्या हुआ है?

क्या रानू मंडल के मन भी ऐसे कई सवाल और ऐसी कई दुविधाएं आती होंगी, इनका जवाब ढूंढने में मैं तो खुद ही अक्षम महसूस कर रही हूँ।

क्या रानू मंडल के मन भी ऐसे कई सवाल और ऐसी कई दुविधाएं आती होंगी, इनका जवाब ढूंढने में मैं तो खुद ही अक्षम महसूस कर रही हूँ।

आजकल संगीत दुनिया में छाई हुई रानू मंडल को लता मंगेशकर की छाया कहा जाता है। इंटरनेट पर वायरल हुआ रानू का वीडियो और उनकी आवाज़ ने देश विदेश में सनसनी फैला दी। ‘एक प्यार का नगमा है’ , ये गाना रानू ने एक रेलवे स्टेशन पर गाया। एक राहगीर अतिंद्र चक्रवर्ती को उनकी आवाज़ का जादू कुछ इस क़दर भाया कि उन्होंने रानू का वीडियो शूट किया और इंटरनेट पर डाल दिया। इस गाने को लोगों ने इतना पसंद किया कि रानू की आवाज़ के चाहने वाले लाखों के तादाद में सामने आए।

इन्हीं कद्रदानों में से एक हैं संगीतकार, गायक हिमेश रेशमिया। अपनी फ़िल्म का गाना ‘ तेरी मेरी कहानी ‘ हिमेश ने रानू की आवाज़ में रिकॉर्ड किया और रानू मंडल रातों रात स्टार सिंगर बन गईं। कई रेडियो स्टेशनों ने रानू को काम का मौका देना चाहा। एक म्यूजिक रियलिटी शो ने उन्हें अपने शो पर बुलाया लेकिन आईडी कार्ड ना होने कारण वह हवाई सफर नहीं कर पाई।

रानू का अतीत काफी दर्दभरा है। ५९ वर्षीय रानू पश्चिम बंगाल के एक छोटे कस्बे कृष्णानगर से हैं। शादी के बाद अपने पति बाबुल मंडल के साथ वह मायानगरी मुंबई में आ गई। मुंबई शहर उनकी कर्मभूमि होने के साथ ही उन्हें इसलिए भा गई क्योंकि यहां उनकी प्रेरणा स्त्रोत लता मंगेशकर रहती थीं। पति के देहांत के बाद रानू फिर से रानाघाट, बंगाल चली गयीं। जीवनयापन के लिए जब उनके पास कोई रास्ता न बचा तब वे रानाघाट रेलवे स्टेशन पर अपनी प्यारी लता दीदी के गानों को गा कर पैसे कमाने लगी। ऐसी ही एक शाम अतिंद्र चक्रवर्ती जब रानाघाट रेलवे स्टेशन पर उतरे तो उनके कानों में रानू की आवाज़ पड़ी और उनके पैर वहीं ठिठक गए। रानू की मधुर आवाज को उन्होंने अपने मोबाइल में कैद करना बेहतर समझा। रानू का प्यार का नगमा वीडियो रिकॉर्ड करते ही अतिंद्र ने वह अपने दोस्तों और रिश्तदारों को भेजा और अगले २४ घंटों में रानू की आवाज़ पूरे देश में अपना जलवा दिखाने लगी।

हिमेश रेशमिया ने दिए ब्रेक के बाद रानू एक रात में रेलवे स्टेशन पर गानेवाली से सेलिब्रेटी स्टार सिंगर बन गई। और फिर वही हुआ। रानू को मीडिया से, टीवी शो से और जनता से इतना ज्यादा अटेंशन मिलने लगा कि वो समझ ही नहीं पाई की इसे कैसे सभालें। इस बौखलाहट के चलते उन्होंने सेल्फ़ी की विनती करती अपनी फैन को उन्हें छूने के लिए डांट दिया। मीडिया ने यह भी शूट कर दिया और अब वही मीडिया उन्हें उनके सख़्त रवैय्ये के कारण लताड़ने लगी। लोगों ने अब रानू का मज़ाक उड़ाने में कोई कसर नही छोड़ी। रानू की आवाज़ और उनके चेहरे का मज़ाक उड़ाते भद्दे वीडियो वायरल होने लगे। उनका रिकॉर्ड किया हुआ गाना अब मुर्गे की डब आवाज़ में सामने आया। रानू का मेकओवर किया गया तो उसके भी वाहियात कॉमेंट्स सोशल मीडिया पर आने लगे। जहां पर उन्हें एक रात में स्टार बनाया वहीं हमारे दोगले समाज ने उन्हें बूरी तरह ऊपर से नीचे की ओर फेंक दिया।

रानू पर बनी भद्दी मिम्स को देख कर हैरत भी होती है और गुस्सा भी आता है। गौर किया तो मैंने पाया की सभी भद्दे वीडियो पुरुषों ने बनाए थे। किसी भी स्त्री ने रानू का मज़ाक नही उड़ाया। अपनी जिस फैन को रानू ने डांटा उसने भी रानू के ख़िलाफ़ कोई शिकायत नहीं की।

लेकिन मैं सोच रही हूँ, क्या हो गया है हमारे समाज के इन पुरुषों को? हमारे वीर योद्धाओं के देश में जो पुरुष स्त्रियों के रक्षक हुआ करते थे, अब वो ही भक्षक बन चुके हैं? ज़रा कुछ हुआ नहीं कि कोई शारीरिक तो कोई मानसिक रूप से स्त्री को प्रताड़ित करने पर तुल जाता है। क्या दोगलापन हमारे खून में आ चुका है? क्या स्त्री की तरक्की पुरुषों के अहंकार को इतना आहत करती है? हम ने पश्चिमी देशों की जीवन शैली तो अपना ली है मगर सोच अब भी आधुनिकीकरण के नाम पर रो रही है।

रानू के इस व्यवहार को बेनिफिट ऑफ डाउट नहीं देना चाहिए? रंक से राजा के तरफ जाने के सफ़र में होने वाली ऐसी गलतियों को सुधारने का मौका नहीं देना चाहिए? यही गलती अगर आज श्रेया घोषाल, सुनिधि चौहान या और कोई स्टार सिंगर करती तब भी क्या हमारा समाज इसी तरह से प्रतिक्रिया देता? हम कब तक पोजिशन ऑफ पावर का ग़लत इस्तेमाल करते रहेंगे?

Never miss real stories from India's women.

Register Now

रानू मंडल के मन भी ऐसे कई सवाल और ऐसी कई दुविधाएं आती होंगी। जिनका जवाब मैं ढूंढने में अक्षम महसूस कर रही हूँ। बस यही कामना करती हूँ कि रानू इन सवालों से आगे बढ़ें और अपना सपना पूरा करें।

मूल चित्र : YouTube 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

Pragati Bachhawat

I am Pragati Jitendra Bachhawat from Mumbai. Homemaker and an Indian classical vocalist. Would love to explore a new Pragati inside through words and women's web. read more...

11 Posts | 29,902 Views
All Categories