कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Pragati Bachhawat

I am Pragati Jitendra Bachhawat from Mumbai. Homemaker and an Indian classical vocalist. Would love to explore a new Pragati inside through words and women's web.

Voice of Pragati Bachhawat

जन्मदिन मुबारक विद्या बालन! नारी सशक्तिकरण की एक बोल्ड एंड ब्यूटीफुल मिसाल हैं आप!

जन्मदिन मुबारक विद्या बालन! विद्या भले ही अपना जन्मदिन मना चुकी हैं, लेकिन मैं इस महीने को उनके नाम करती हूँ और उनको एक बार फिर शुभकामनाएं देती हूँ! 

टिप्पणी देखें ( 0 )
फिल्म छपाक का #MuhDikhai 2.0 कौन सी मुँह दिखाई की तरफ इशारा है

फिल्म छपाक का #MuhDikhai 2.0, आइये जानें क्या है 10 जनवरी 2020 को रिलीज़ होनेवाली इस फ़िल्म का हाल ही में सोशल मीडिया पर आया ये वीडियो। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
बॉलीवुड की 10 फेमिनिस्ट फ़िल्में जिन्होंने इस दशक की गरिमा बढ़ाई!

बॉलीवुड की 10 फेमिनिस्ट फ़िल्में, जो मुझे पसंद हैं और मुझे उम्मीद है कि इस लिस्ट से आप भी उतने ही प्रभावित और प्रेरित होंगे जितनी मैं हूँ!

टिप्पणी देखें ( 0 )
शाहीन भट्ट की किताब सवाल उठाती है – क्या डिप्रेशन हमारे दिखावटी समाज का आइना है?

शाहीन भट्ट की किताब आई हैव नैवेर बीन (अन)हैपिअर  उनकी अपनी जीवनी है जिसमें वे डिप्रेशन के साथ की २० साल लंबी लड़ाई की अपनी दास्तान बताती हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
लता मंगेशकर के 11 नए-पुराने गाने जो उनके संगीतमय जीवन की कहानी सुनाते हैं

लता मंगेशकर के 11 नए-पुराने गाने और उनके जीवन के कुछ पल जिसमें साफ़ झलकता है कि जितनी संवेदनशील वह कलाकार हैं उतनी ही नेक इंसान।

टिप्पणी देखें ( 0 )
IFFI 2019 में तापसी पन्नू का ये जवाब क्या हमारी दकियानूसी सोच को ललकारता है!

IFFI 2019 में तापसी पन्नू ने रिपोर्टर को ये जवाब देकर एक बार फिर साबित किया कि वे हमेशा सही राह ही चुनेंगी फिर चाहे उन्हें किसी का भी सामना करना पड़े!

टिप्पणी देखें ( 0 )
रानू मंडल के व्यवहार की बात छोड़िये, ये सोचिये कि इन पढ़े-लिखे लोगों को क्या हुआ है?

क्या रानू मंडल के मन भी ऐसे कई सवाल और ऐसी कई दुविधाएं आती होंगी, इनका जवाब ढूंढने में मैं तो खुद ही अक्षम महसूस कर रही हूँ।

टिप्पणी देखें ( 0 )
कृति खरबंदा फ़िल्म चेहरे से क्यों हुईं बाहर? क्या उनकी ‘ना’ सम्माननीय नहीं है?

कृति खरबंदा फ़िल्म चेहरे से बाहर हुईं - जो स्त्री अपनी अस्मिता और सम्मान के लिए किसी पुरुष को नकार देती है, क्यों उसकी आवाज़ दबा दी जाती है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्यों हम सच्ची फेमिनिस्ट फिल्मों की बजाय फालतू हास्यपद फिल्में देखना ज़्यादा पसंद करते हैं?

क्या एक सच्ची कहानी और सशक्त अभिनय हल्की-फुल्की हॉरर कॉमेडी के आगे फीकी है या हम दर्शकों की पसंद को एक स्तर से ऊपर उठाने की ज़रूरत है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
KBC 11 की कर्मवीर सुनीता कृष्णन हैं यौन तस्करी से पीड़ित महिलाओं के लिए एक प्रज्वल उम्मीद!

KBC 11 की कर्मवीर सुनीता कृष्णन पूछती हैं, 'जब यौन शोषण करने वाले हमारे समाज का हिस्सा हैं, तो यौन पीड़िताओं को समाज का हिस्सा क्यों नहीं बनने दिया जाता?'

टिप्पणी देखें ( 0 )
रैपर एग्ज़ी रैप में कह रही हैं ‘वक़्त अब औरत उठाने का’ और हम इनसे सहमत हैं

रैपर एग्ज़ी के इस रैप को सुनते हुए रोम-रोम खड़ा होता है और सोचने पर मजबुर करता है कि अब वो समय आ चुका है जब इस भेदभाव के खिलाफ आवाज़ उठाना जरूरी हो चला है।

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?