यादों का पिटारा

Posted: July 29, 2019

यादें मरा नहीं करतीं, ये हमेशा दिलों में ज़िंदा रहती हैं, ये हमेशा दिलों में ज़िंदा रहती हैं…

आज फ़ुर्सत से

दिल की संदूकों को जब खोलकर देखा

यादों से लिपटी कई तस्वीरों को देखा

कुछ किस्से पड़े थे कोने में

कुछ रिश्ते झाँक रहे थे छुप-छुप के

पापा की फ़िक्र

माँ का दुलार

भाई-बहन का प्यार

रिश्ते-नातों का भंडार

कुछ खट्टी कुछ मीठी बातें आयी उमड़ के सामने

जो सदियों से दबी थीं मुलाक़ातों की पुस्तक तले

हैरान नज़रों से ताक रहे थे कुछ अधूरे वादे

पूछ रहे थे सौ सवाल वो नेक इरादे

चहक उठा वो सोता हुआ बचपन भी

मुस्कुरा उठे गुड्डे-गुड़िया

हँस दिए सारे खिलौने

धूल में लिपटी हुई वो साइकिल भी बोली

चल, चलेगा क्या दोस्तों की गली

इतनी हलचल सुन

जाग उठे मन के सारे अरमान

जैसे खुल गया हो यादों का पिटारा सा

लग गया हो जज़्बातों का मेला सा

मानो लौट आया बचपन वो प्यारा सा

खिलखिलाया आज फिर आँगन मेरा

लेकर यादों की बारात

आज भी

जब जी चाहे चल पड़ता हूँ उन गलियों में

जहाँ शाम बड़ी सुहानी लगती है

मौजों की रवानी सी लगती है

कितना भी दूर जायें हम

कितना भी भूल जायें हम

यादें आज भी दस्तक देती हैं

तन्हाई में साथ ना छोड़तीं

ग़म में भी मुँह ना मोड़तीं

क्योंकि

यादें मरा नहीं करतीं

ये हमेशा दिलों में ज़िंदा रहती हैं

ये हमेशा दिलों में ज़िंदा रहती हैं

मूलचित्र : Pixabay 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Rashmi Jain is an explorer by heart who has started on a voyage to self-

और जाने

Salman Khan is all set to romance Alia Bhatt!

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

NOVEMBER's Best New Books by Women Authors!

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?