Rashmi Jain

Rashmi Jain is an explorer by heart who has started on a voyage to self-discover herself by means of her writings. Her writings mainly revolve around the freedom, equality and empowerment of women. It also involves exploring life by means of travelling and the life lessons learnt in the entire process. She keeps experimenting, creating and learning new things. She is a nature lover and adventure enthusiast.

Voice of Rashmi Jain

काश कोई लौटा दे मेरा वो मासूम सा, नादान सा बचपन!

हर दिन पलकों पर नए सपने संजोता हुआ सा वो बचपन अपनी ही रवानी में मस्त वो बचपन, छोटी छोटी खुशियों का जश़न मनाता हुआ वो बचपन!

टिप्पणी देखें ( 0 )
बस इसी आस में कि कुछ और ना सही, मुट्ठी भर आसमान तो हाथ आए

अंधेरे से पहले सन्नाटा कैसा, ढलने से पहले ही ढलना कैसा, अंबर की ये बातें सुन, हैरान हुआ मन, जब सर उठाकर देखा, नभ के टिमटिमाते तारे बोले। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
तू आशा की लौ दिल में जलाए जा

तू बस छोटी सी आशा की किरण लिए, तारों की मद्धम रोशनी में ही सही, आगे क़दम बढ़ाए जा, भोर तो होगी ही, तू बस आशाओं की लौ दिल में जलाए जा

टिप्पणी देखें ( 0 )
धन्य हो तेरी यह काया! ऐ वीर! तुझे प्रणाम!

ऐ वीर तेरी ख़ाकी वर्दी पर नाज़ है हमें, झुक कर तुझे सलाम करता हूँ, एक बार नहीं बारंबार प्रणाम करता हूँ

टिप्पणी देखें ( 0 )
देश के वीर जवान

गर चंद छींटे लहू के पड़े दामन पर तेरे, नम ना करना इन पलकों को तू, स्पर्श कर तेरे चरणों को, अमर हो जाने देना मेरे लहू को तू।

टिप्पणी देखें ( 0 )
दोस्ती – एक अनोखा रिश्ता

हमने भी दोस्तों को सदियों से इस दिल में महफूज़ रखा है, दूरियों को मीलों से नहीं गहराईयों से नाप रखा है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
यादों का पिटारा

यादें मरा नहीं करतीं, ये हमेशा दिलों में ज़िंदा रहती हैं, ये हमेशा दिलों में ज़िंदा रहती हैं...

टिप्पणी देखें ( 0 )
आज फिर-तुझे याद है ना माँ

अब थक सी गई हूँ, हँसना भूल सी गई हूँ, वक़्त के दिए ज़ख़्मों पर, आज फिर मरहम तू लगा दे ना माँ।  

टिप्पणी देखें ( 0 )
नारी हूँ नारी मैं-किस्मत की मारी नहीं

बीता वो पतझड़, मैं बसंत बन खिल आई हूँ, रूबरू रोशनी नई, आज ख़ुद चाँद बन, बादलों को चीर निकल आई हूँ।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ये ज़िंदगी की पुकार है – खुद पर एतबार रख यारा

आज ज़िंदगी ने तुझ को है पुकारा, "कर ले इस दिल की सारी चाहतें पूरी, चल निकालें मिलकर आशाओं की अपनी ये टोली।"

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?