कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

चल ना सहेली, फिर से बचपन जी लेंगे…

चल भी अब कितना इंतज़ार करेंगे, कब तक शादी और परिवार में ही फंसे रहेंगे। चल ना सहेली, फिर से अपना बचपन जी लेंगे।

चल भी अब कितना इंतज़ार करेंगे, कब तक शादी और परिवार में ही फंसे रहेंगे। चल ना सहेली, फिर से अपना बचपन जी लेंगे।

चल ना, फिर से वही फ्रॉक पहनकर घूम लेते हैं,
चल ना, दो चोटी बनाकर उसमें सुंदर क्लिप लगाते हैं,
चल ना, चौपाटी पर गोलगप्पे ठूंस लेते हैं।
चल ना, उस बंटी की साइकिल फिस्स कर देते हैं,
चल ना सहेली, फिर से वही बचपन जी लेते हैं।

तू सुबह साइकिल पर आएगी और मेरे घर की घंटी बजाएगी,
मैं दौड़ती हुई बाहर आऊंगी और तू तेज़ी से साइकिल घुमाएगी।
तीसरी कक्षा के बाद आधी छुट्टी में हम कैंटीन जाएंगे,
पैटी, मुरमुरा, टॉफी और करंट वाला चूरन खाएंगे।
चल ना सहेली फिर से इन पलों को छीन लेते हैं,
फिर से चलते हैं कहीं घूमने और बचपन जी लेते हैं।

छुट्टी वाले दिन तू और मैं पार्क जाएंगे,
सबके साथ खेलेंगे और फिसलन फट्टी वाला झूला खाएंगे।
चोट लगेगी तो फूंक मारकर भगाएंगे,
फिर से हंसते हुए हम झूले पर चढ़ जाएंगे।
चल ना फिर से वही झूले झूल लेते हैं,
चल ना सहेली, फिर से बचपन जी लेते हैं।

रात को बिजली जाएगी, तू मेरी मुंडेर पर आएगी,
घर की दीवारों से टंगकर हम चुटकुले सुनाएंगे।
चल भी अब कितना इंतज़ार करेंगे,
कब तक शादी और परिवार में ही फंसे रहेंगे?
चल ना फिर से हम दोनों छिपन-छिपाई खेलेंगे,
चल ना सहेली, फिर से अपना बचपन जी लेंगे।

मूल चित्र: Instants From Getty Images Signature via Canva Pro

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

टिप्पणी

About the Author

133 Posts | 463,720 Views
All Categories