कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

अब तुम कभी मत आना…

अब जो तुम चले गए हो तो अब मत लौटना। आने वाला वर्ष अब बस सभी के दुख-दर्द को हरने वाला हो। अब बस सबके चेहरे पर मुस्कान हो मीठी और कुछ नहीं।

अब जो तुम चले गए हो तो अब मत लौटना। आने वाला वर्ष अब बस सभी के दुख-दर्द को हरने वाला हो। अब बस सबके चेहरे पर मुस्कान हो मीठी और कुछ नहीं।

आज पूरे 12 बजकर 1 मिनट पर अपने कमरे में बैठी मैं सोच रही हूं, तुम्हारे बारे में। अब जबकि तुम गुज़र चुके हो, सोचती हूं क्यों सोच रही हूं तुम्हारे बारे में। जानती हूं जो हुआ उसके जिम्मेदार तुम नहीं थे, जानती हूं जो होना था वह तो होना ही था फिर भी ना जाने क्यों तुम्हारे जैसे वर्ष के ना लौटने की प्रार्थना कर रही हूं।

कहते हैं जो बीत गई वह बात गई, पर तुम; तुम तो शायद बीत कर भी ना जाने कब तक हम सब के ज़हन में मौजूद रहोगे। कितनों का सुख-चैन, सर से छत, मुंह से निवाला छीन लिया तुमने। कितनों की जिंदगी और उनके पीछे रह गए लोगों से जीने की उम्मीद। अभी कल ही तो एक सुहागन को विधवा होते देख कर आई हूँ। सांत्वना देने को शब्द नहीं थे मेरे पास। ऐसे ना जाने कितने ही लोगों को काल का ग्रास बना दिया तुमने। हां! तुमने ही। नहीं जानती जो कुछ हुआ उसके लिए तुम जिम्मेवार थे या होनी।

तुम्हारे आगमन पर कितनी खुशियां मनाई थी सबने। एक-दूसरे को ना जाने कितने बधाई, संदेश भेजे थे। अब तो तुम्हारे जल्दी चले जाने की बाट जोह रहे थे सब। खैर अब जो तुम चले गए हो तो अब मत लौटना। बस यही प्रार्थना है मेरी तुमसे। आने वाला वर्ष अब बस सभी के दुख-दर्द को हरने वाला हो। अब बस सबके चेहरे पर मुस्कान हो मीठी और कुछ नहीं।

मूल चित्र : Sharath Kumar via Pexels

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

Anchal Aashish

A mother, reader and just started as a blogger read more...

36 Posts | 88,293 Views
All Categories