कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

एक श्रद्धांजलि – हाँ! आज मैं शर्मिंदा हूं खुद से!

जली थी मैं भी कहीं-कहीं उस आग में, जो सब ने तुम पर बरसाई थी, उस आग की झुलस से काश मैं उन्हें भी जला पाती, और लिपटा कर तुम्हें खुद से, तुम्हें छुपा पाती… मैं हूं वह जमीन जो तुम्हारे साथ थी, पर मैं शर्मिंदा हूं। धकेला था जब उन्होंने तुम्हें मुझ पर, तब […]

जली थी मैं भी कहीं-कहीं उस आग में, जो सब ने तुम पर बरसाई थी, उस आग की झुलस से काश मैं उन्हें भी जला पाती, और लिपटा कर तुम्हें खुद से, तुम्हें छुपा पाती…

मैं हूं वह जमीन जो तुम्हारे साथ थी,
पर मैं शर्मिंदा हूं।

धकेला था जब उन्होंने तुम्हें मुझ पर,
तब मैं तुम्हें थाम न पाई,
गिरी थीं जब तुम मुझ पर,
क्यों मैं तुम्हें उठा ना पाई।

तुम पर किया हर वार मैंने भी महसूस किया था,
जब तुम्हारी मुट्ठी से मेरा हर एक कतरा फिसला था।
काश कि उन कतरों का बवंडर मैं ला पाती,
और तुम्हारे जिस्म को कहीं दूर उड़ा के ले जाती।

तुम्हारी चीख़ों से मुझ में दरारें तो बहुत पड़ीं,
पर कैसे वह किसी और के कानों ने ना सुनी?
तब जी चाहा था कि मैं फट जाती,
और वैदेही की तरह तुम्हें भी खुद में समा पाती।

तुम्हारी हर एक कराह गूंजती है मुझ में हर वक़्त कहीं,
पर उस वहशी हंसी का हिसाब कौन लेगा?
वो एड़ी की हर रगड़ मुझ पर छपी है अभी भी,
पर उन छुपे चेहरों को बेनकाब कौन करेगा?

जली थी मैं भी कहीं-कहीं उस आग में,
जो सब ने तुम पर बरसाई थी।
उस आग की झुलस से काश मैं उन्हें भी जला पाती,
और लिपटा कर तुम्हें खुद से मैं, तुम्हें छुपा पाती।

उस आखिरी आह में,
मैं कुछ तो उड़ी थी,
पर थम गई थी बस वहीं,
जब सांस तुम्हारी टूटी थी।

Never miss a story from India's real women.

Register Now

बिखरा तब मेरा वजूद था,
जब उस मां को मैंने टूटते देखा था,
हाथों में जिसके बस राख तुम्हारी आई थी।
रह गई बस बनकर बस गूंगी चश्मदीद,
क्यों मैं कुछ और कह ना पाई।

तुम्हारी ‘मिट्टी’ में मेरा कुछ हिस्सा साथ गया था,
बस इतना ही साथ तुम्हारा मैं दे पाई,
मैं शर्मिंदा हूं,
कि कुछ कर ना पाई।

मूल चित्र : Screenshot Kasauti Zindagi ke

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Smithing words, in forge of thoughts.

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020

All Categories