कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

क्या इस बार भी रहने दूं?

Posted: अप्रैल 2, 2020

बस एक झलक ही दिख पाती है अश्रु धारा में, तोड़ के वह बांध चलो तुमको भी कुछ नहला दूं और बन के एक धारा खुद को भी बहने दूं या हर बार की तरह इस बार भी रहने दूं?

(अभिव्यक्ति के अभाव में मन के भावों
को प्रस्तुत करने की एक कोशिश)

सुनो,
मैं कुछ कहना चाहती हूं।

निशब्द हूँ कि कैसे शब्दावली रचूं,
या हर बार कि तरह इस बार भी रहने दूं?

अभिव्यक्ति मेरी कहीं तुम्हारी वेदना न बन जाएं,
शब्द बनकर बाण कहीं तुम्हें न चुभ जाएं,
और तुम्हारे कृदंन से मेरे अधर न रुक जाएं।
इसलिए खुद को चुप ही रहने दूं,
और हर बार की तरह इस बार भी रहने दूं!

‌सिमट के रह जाती है भाव गंगा हर बार समझदारी के बांध में,
बस एक झलक ही दिख पाती है अश्रु धारा में।
तोड़ के वह बांध चलो तुमको भी कुछ नहला दूं,
और बनके एक धारा खुद को भी बहने दूं,
या हर बार की तरह इस बार भी रहने दूं?

सुन लो अगर, जो मैं कहूं तो शायद फिर भी ना कहूं,
और हर बार की तरह इस बार भी रहने दूं?

मूल चित्र : Pexels

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Smithing words, in forge of thoughts.

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020