कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

वह नानी, दादी की कहानियां और कुछ भूली बिसरी यादें

Posted: मई 2, 2020

वह नानी, दादी की कहानियां, बचपन की शरारतें, मां – पापा की डांट और फिर से नानी का अपने गोद में लेकर पुचकारना, कुछ अलग सी जिंदगी हुआ करती थी। 

कहते हैं वक्त आगे बढ़ता जाता है, पल भर को भी रुकता नहीं, पर यादें, यादें तो मानसपटल पर कभी ना मिटने वाली गहरी छाप छोड़ जाती हैं। ऐसी हीं कुछ यादें हैं मेरे बचपन की जिनमें खो कर ऐसा लगता है जैसे मैं फिर से छोटी बच्ची बन गई और समय के पालने में लेटी झूला झूल रही हूं।

वह नानी, दादी की कहानियां, बचपन की शरारतें, मां – पापा की डांट और फिर से नानी का अपने गोद में लेकर पुचकारना, कुछ अलग सी जिंदगी हुआ करती थी, बेफिक्र सी, ना किसी बात कि चिंता ना किसी बात का डर। ऐसी कई यादें हैं बचपन की जो कई बार हमारी आज की जिंदगी की समस्याओं का समाधान बड़ी आसानी से कर देती हैं। कभी – कभी मुझे लगता है कि, बचपन में नानी – दादी के साथ बिताए हुए लम्हें अनमोल थे।

मम्मी जब भी दादी के पास जाती मुझे नानी के पास छोड़ जाया करती क्यूं ? ये बात तब समझ नहीं आती थी पर तब नानी ने समझाया कि दादी की तबीयत अक्सर खराब रहा करती और फिर वहां मेरी देखभाल सही तरीके से नहीं हो पाती इसलिए मम्मी ऐसा करती, तो इस तरह मुझे नानी के साथ ढेर सारा समय मिल जाता।

नानी ढेर सारी कहानियां सुनाती, अपने पास ही सुलाती और हर बार ऐसी चीजें खाने की आदत डलवा देती जिन चीज़ों को मैं देखना भी पसंद नहीं करती। ना जाने ऐसा कौन सा जादू होता उनकी बातों और कहानियों में कि, मैं उनकी कही हर बात झटपट मान जाती और जब मम्मी वापस आती तो मैं एक अच्छी बच्ची के रूप में मिलती।

नानी की कहानियों में बहादुर परियां होती जो अपनी बहादुरी से किसी राजकुमार कि मदद करती, जादू होता और हरी सब्जियां और फल खाने वाले बहादुर बच्चे होते जो निडर होकर किसी भी चुनौती का सामना करने की क्षमता रखते और अपनी बहादुरी के लिए पुरस्कार पाते।

कितना अच्छा हो अगर हम भी अपने बच्चों को स्मार्ट फोन की जगह दादी, नानी के साथ ऐसे अनमोल पल, ऐसी भूली – बिसरी यादें दे पाएं।

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

A mother, reader and just started as a blogger

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020