कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

मेरे बीमार पड़ते ही घरवालों पर मुसीबतों का पहाड़ क्यों टूट जाता है?

सबके लिए एक टाँग पर खड़े रहने वाली जब आज बीमार है, तो उसकी तबीयत ख़राब होने से ज़्यादा घर के लोग इस बात से परेशान हैं कि काम कौन करेगा?

सबके लिए एक टाँग पर खड़े रहने वाली जब आज बीमार है, तो उसकी तबीयत ख़राब होने से ज़्यादा घर के लोग इस बात से परेशान हैं कि काम कौन करेगा?

उषा किचन साफ़ करके जैसे ही बिस्तर पर आई तो महसूस किया कि उसका पूरा बदन तेज़ बुखार से तप रहा था। उसे कमज़ोरी भी महसूस हो रही थी। उसने दवाई ली और सोने की कोशिश करने लगी, पर दर्द की वजह से ठीक से सो नहीं पा रही थी। पूरी रात इधर से उधर करवट बदलती रही। आँख लगी ही थी कि हॉल से आवाज़ आई, “आज चाय नहीं मिलेगी क्या?”

उषा को एहसास हुआ कि सुबह हो चुकी थी। पति को अपनी तबीयत के बारे में बिन बताए जैसे-तैसे उसने नाश्ता बनाया और टिफिन पैक करके पति को ऑफिस और बच्चों को स्कूल भेजा। अब उषा बिल्कुल भी खड़ी नहीं हो पा रही थी। वह अपने कमरे में जाकर बिस्तर पर लेट गयी।

उषा की सासू-माँ इस बात से मन ही मन परेशान होने लगी थी कि अब आज खाना कौन बनाएगा? उषा को भनक लग गयी थी इस बात की। वह बिस्तर पर लेटे-लेटे सोचने लगी कि कैसे वह सबके लिए उनकी एक छींक आने पर भी एक टांग पर खड़ी रहती है। दवाई, खाना-पानी सबको टेबल पर रखा मिल जाता है और आज जब वो बीमार है तो उसकी तबीयत ख़राब होने से ज़्यादा लोग इस बात से परेशान हैं कि काम कौन करेगा?

उसकी आँखों से आँसू आ गए कि खाने में नमक कितना पड़ेगा और मसाले का हिसाब क्या है, ये तक बताने के लिए अब उसे बार-बार बिस्तर से उठना पड़ेगा। वह सोच में पड़ गयी कि कीमत क्या है उसकी इस घर में? एक काम करने वाली बाई को भी महीने में पाँच छह छुट्टी मिल ही जाती हैं। वो भी अपनी शर्तों पर ही काम करती है घर में। कोई ज़्यादा ना नुकर करता है तो फट से बोल देती है, “हिसाब कर दो मेरा।”

एक बहु का क्या इतना भी हक़ नहीं है कि बीमार पड़ने पर वो अपनी मर्ज़ी से आराम तक कर सके? अगर उसका मन न करे काम करने का तो खुलकर अपनी तकलीफ अपने परिवार वालों के सामने रख सके? उसे डर ना हो इस बात का कि उसे इस बात के लिए भी ताना सुनाया जायेगा कि “आजकल की बहुएँ तो छुइमुई सी हो गयी हैं हवा लगते ही बीमार पड़ जाती हैं।”

ये सब सोचते-सोचते ना जाने कब उसे झपकी लग गयी, उसकी नींद फिर एक आवाज़ से टूटी, “बहु बच्चे आने वाले हैं, खाना नहीं बनेगा क्या आज?”

उषा धीरे से उठते हुए और अपने कपड़ों को सही करते हुए किचन की तरफ कदम बढ़ा देती है।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

कैसी लगी आज की कहानी, अगर पसंद आए तो फॉलो करे और अपनी राय दे।

मूल चित्र : Pexels

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

Deepika Mishra

I am a mom of two lovely kids, Content creator and Poetry lover. read more...

21 Posts | 135,729 Views
All Categories