कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

डॉ निकिशा जरीवाला दृष्टिहीनों के लिए शिक्षा की राह आसान कर रही हैं

Posted: September 18, 2019

दृष्टिहीनों के लिए शिक्षा की राह आसान कर रही हैं डॉ निकिशा जरीवाला, ऐसा मॉडल बनाया जो लाखों को पहुंचाएगा फायदा, इस मॉडल के ज़रिए संवाद और आसान। 

औरत जब ठान लेती है तो करके दिखाती है। ये सिर्फ एक कहावत नहीं बल्कि सच्चाई है। ऐसी लाखों कहानियां हैं जो इस कहावत को सच कर रही हैं। उन्हीं में से एक कहानी है गुजरात की एक प्रोफेसर डॉ. निकिशा जरीवाला की।

गुजरात के सूरत शहर में श्रीमति तनुबेन और डॉक्टर मनु भाई त्रिवेदी कॉलेज ऑफ इंर्फोमेशन साइंस (विमेन्स कॉलेज) में पढ़ाने वालीं निकिशा जरीवाला ने एक ऐसा मॉडल बनाया है जो दृष्टिहीन छात्रों की पढ़ाई को आसान बनाएगा। ये मॉडल हिंदी, अंग्रेज़ी और गुजराती का ब्रेल लिपि में अनुवाद करेगा। ये मॉडल टेक्स्ट के अलावा ड्राइंग्स, मैथमेटिकल इक्वेशन्स को भी स्पीच यानि ऑडियो में बदल देगा।

डॉक्टर निकिशा के लिए ये मॉडल बनाना बिल्कुल भी आसान नहीं था। इसके लिए उन्हें दिन-रात एक करना पड़ा। निकिशा को अपनी मेहनत और काम पर पूरा विश्वास है और वो मानती हैं कि ये आविष्कार दृष्टिहीन बच्चों के लिए एक वरदान सिद्ध होगा। इंटरनेट पर दुनियाभर के ऐसे दस्तावेज़ हैं जिन्हें दृष्टिहीन पढ़ने में सक्षम नहीं हैं, लेकिन इस मॉडल के ज़रिए उनके लिए संवाद और आसान हो जाएगा।

निकिशा को अपनी पी.एच.डी पूरी करने में चार साल लगे। इस मॉडल को बनाने के लिए उन्होंने ब्रेल लिपि भी सीखी। डॉ. निकिशा की इस खोज से छात्र बेहद ख़ुश हैं।

डॉ. निकिशा जरीवाला के बारे में और जानने के लिए आप उनका ब्लॉग पढ़ सकते हैं। यू ट्यूब पर भी उनका अपना एक पेज हैं जहां वो समय-समय पर ट्यूटोरियल पोस्ट करती रहती हैं।

मूल चित्र : Pixabay/Google 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

WORKING FOR THE LAST 5 YEARS IN MEDIA....AS A WOMAN I FEEL WE STILL

और जाने

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?