कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

क्या तलाक के बाद एक औरत को सम्मान पाने का कोई हक़ नहीं?

Posted: May 27, 2020

मेरी दूसरी शादी को आज तक कुछ भी ठीक नहीं हुआ हैं और अब मेरे पति मुझसे भी नफरत करते हैं क्योंकि लगता है सारे फसाद की जड़ मैं ही हूँ। 

मैं एक तलाकशुदा औरत हूँ। मैंने तलाक के दो साल बाद फिर से शादी की। जिससे शादी की उसे मैं अपनी पहली शादी से पहले ही जानती थी और हम दोनों अच्छे दोस्त भी थे इसलिए उसने मुझे बोला कि मैं तेरा हाथ थामने के लिए तैयार हूं। तू बस अपने मम्मी पापा को मना ले इस शादी के लिये और जब वे मान जायेंगे तब वे खुद मेरे घर आ कर मेरे मम्मी पापा को भी मना लेंगे। थोड़ा मुश्किल काम है लेकिन एक बार सब मान जायेंगे तो सब ठीक हो जायेगा।

माता-पिता क्यों अपने बिन ब्याहे बेटे की शादी एक तलाकशुदा औरत से करना चाहेंगे?

परंतु जाति का अंतर होने के कारण मेरे माता-पिता बिलकुल नहीं माने और जिससे शादी करना चाहती थी उनके माता-पिता के मानने का तो सवाल ही पैदा नहीं होता था क्योंकि कोई भी माता-पिता क्यों अपने बिन ब्याहे बेटे की शादी एक तलाकशुदा औरत से करना चाहेंगे? उनकी बात भी बिलकुल सही थी आखिर हर माँ बाप के अपने बेटे को लेकर कुछ सपने होते है।

मैंने भी यही बात बोली थी जिससे मेरी शादी होने वाली थी कि तुम्हारे माता पिता के भी कुछ सपने होंगे और मैं तुमसे शादी नहीं कर सकती। पर उनके कुछ ज्यादा ही समझाने पर मैं भी मान गयी। लगा कि शायद पहली शादी माँ-बाप की मर्ज़ी से की थी, वो चल नहीं पाई, क्या पता इस बार मेरी जिंदगी सँवर जाये वरना इतना प्यार और सम्मान कौन देता है एक तलाकशुदा औरत को?

बस फिर क्या था माँ-बाप माने नहीं तो घर से भाग आयी और कोर्ट मैरिज कर ली। यहाँ ससुराल में अपने पति और ससुराल वालों के साथ रहने लगी। ससुराल में मेरे सास-ससुर और जेठजी है। जेठानी नहीं है अभी। शुरू के 3-4 महीने तो ठीक से निकल गए फिर पता चला पतिदेव को तो बहुत गुस्सा आता है, हर छोटी-छोटी बात पर।

अब मेरा मेरे परिवार से कोई नाता नहीं है

कोई गाना सुन लिया तो थप्पड़ मार दिया। खाना ठीक से नहीं बना, तो थप्पड़ मार दिया। कभी अगर मेरे घरवालों की कोई बात याद आ गयी, तो मारना शुरू कर दिया, क्योंकि मेरे घरवालों ने इनका और मेरा शादी से पहले बहुत विरोध किया था। क्योंकि ये शादी मैंने उनके खिलाफ जा कर की थी, इसलिए अब मेरा मेरे परिवार से कोई नाता नहीं है कि अगर ससुराल में कोई बात हो जाये तो मैं अपने मन की बात उनसे कह सकूँ।

आज ढाई साल हो गए है मेरी इस शादी को आज तक कुछ भी ठीक नहीं हुआ हैं और अब मेरे पति मुझसे भी नफरत करते हैं क्योंकि सारे फसाद की जड़ मैं ही हूँ। मैं भी जैसे तैसे अपने दिन काट रही हूँ बेइज़्ज़त हो होकर।

दूसरे पति ने साथ देने से मना कर दिया

मेरे पति मर्चेंट नेवी में काम करते हैं इसलिए 6 महीने जहाज़ पर ही रहते हैं। इस बार जब से मेरे पति जहाज़ पर गये हैं, मेरे जेठ जी ने मुझे गन्दी गन्दी गलियां देना और मुझ पर बेबुनियाद इलज़ाम लगाना शुरू कर दिया है। मुझे हमेशा चरित्रहीन साबित करने में लगे रहते है। मैंने कुछ बातें अपने पति को बतायी तो उन्होंने कहा, ‘तमीज से बात कर मेरा बड़ा भाई है और हमेशा रहेगा उसके खिलाफ एक लफ्ज़ नहीं सुनूँगा।’

अब समस्या ये खड़ी हैं कि मैं आगे क्या कदम उठाऊं? पति ने तो साथ देने से मना कर दिया। क्या इसी तरह जेठ जी की गन्दी हरकते बर्दाश करती रहूं या कोई क़ानूनी कार्यवाही करूँ इनके खिलाफ। मैं पुलिस को बुलाकर अपने सास ससुर की इज़्ज़त नहीं उछालना चाहती और साथ ही जेठ की हरकतें भी बर्दाश नहीं कर सकती।

अगर किसी के पास कोई अच्छा सुझाव हो जिससे मेरे सास ससुर की इज़्ज़त भी बनी रहे और जेठ को भी सबक सिखाया जा सके तो कृपया अपने सुझाव दीजिये ताकि मैं अपनी इस शादी को बचा सकूँ।

मूल चित्र : Unsplash 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य - महत्त्वपूर्ण जानकारी आपके लिए

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020