कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

इस मदर्स डे मुझे सिर्फ़ एक दिन की छुट्टी चाहिए और कुछ नहीं!

इस मदर्स डे मुझे अपनी कभी भी ना ख़त्म होने वाली ड्यूटीज़ से सिर्फ़ एक दिन की छुट्टी चाहिए सिर्फ़ एक दिन...बस इतना ही चाहिए मुझे इस मदर्स डे!

इस मदर्स डे मुझे अपनी कभी भी ना ख़त्म होने वाली ड्यूटीज़ से सिर्फ़ एक दिन की छुट्टी चाहिए सिर्फ़ एक दिन…बस इतना ही चाहिए मुझे इस मदर्स डे!

अनुवाद : प्रगति अधिकारी 

लोग चाहे इसे मतलबी होना कहें, लेकिन मैं इसे कहूँगी ‘खुद से प्यार करना’…

मैं नहीं चाहती कि मेरे पति या मेरे बच्चे या वो शैतानी अलार्म मुझे सुबह उठाए। मैं तो बस खुद के साथ अपने बिस्तर में सुकून से घुसे हुए सोना चाहती हूँ…जब तक मेरा मन चाहे।

मैं दिन में तीन बार गरम-गरम खाना परोसने की चिंता नहीं करना चाहती। एक दिन ब्रेड-टोस्ट और कॉर्नफ़्लेक्स खाने से बच्चे बीमार तो होने से रहे। नहीं तो हमारे प्यारे पापा हैं न! गो डैडी गो!

मैं बस अपनी सुबह की चाय शांति से, मज़े ले कर, पीना चाहती हूँ…बिना बीच में उठे हुए। क्या मैं बहुत ज़्यादा मांग रही हूँ?

मैं आराम से बबल-बाथ लेना चाहती हूँ सिर्फ दो मिनट में भाग-दौड़ वाला शावर नहीं चाहिए मुझे।

मैं खुद को हर रात अच्छा सा फुट मसाज देना चाहती हूँ, मेरी थकी हुई टाँगे ऐसी हैं मानो मैंने एक पहाड़ चढ़ा हो!

Never miss real stories from India's women.

Register Now

क्यूंकि मैं अपनी माँ से मीलों दूर हूँ, मैं बस उनसे आराम से बात करना चाहती हूँ, उन्हें आराम से सुनना चाहती हूँ, बिना किसी रोक-टोक के। मुझे तो ठीक से याद भी नहीं है कि मैंने उनसे आराम से कब बात की थी।

मैं इस दिन बर्तनों के सिंक की तरफ या गंदे कपड़ों की लॉन्डरी बास्केट की तरफ देखना भी नहीं चाहती। प्लीज़ मुझे एक दिन की छुट्टी चाहिए।

मैं अपने छोटे बच्चों का हर समय ख्याल नहीं रखना चाहती, हर समय उनका फैलाया हुआ सामान नहीं समेटना चाहती, उनकी लड़ाइयों के बीच रेफरी नहीं बनाना चाहती, हर समय डायपर नहीं बदलना चाहती, हर समय उन पर नहीं चिल्लाना चाहती और बहुत ज़रूरी उनको रोज़ रात की तरह लोरी सुना कर नहीं सुलाना चाहती। कोई और भी तो ये सब एक दिन के लिए कर सकता है।

मैं एक दिन बस शांति से अपना कुछ करना चाहती हूँ, बिना ये सोचे कि अभी मुझे कोई आकर कहेगा कि ये कर दो!

आप बोल सकते हैं कि मैं अपनी ज़िम्मेदारी निभाना नहीं चाहती लेकिन इससे मेरे कान पर जूँ तक नहीं रेंगने वाली क्यूंकि मैं बस एक दिन खुद के लिए चाहती हूँ।

मैं आप सब माओं से भी पूछना चाहती हूँ कि इस मदर्स डे पर क्या है आपकी ख़्वाइश? आप क्या चाहती हैं इस दिन? कमैंट्स में शेयर करें।

आप सब को ढेर सा प्यार। हैप्पी मदर्स डे!

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

vartikasdiary

Mom of twin girls, a blogger turned author, a dreamer, a traveler and an artist by heart. read more...

1 Posts | 2,666 Views
All Categories