युवा महिलाओं के लिए
साथ समय के चल रही हूँ, ऐ ज़िंदगी तेरी कहानी मैं ख़ुद ही लिख रही हूँ

टूट गयी जो गुड़िया वक़्त के आघात से, उसको फिर से गढ़कर नयी सी कर रही हूँ, समय को बदलकरसाथ समय के चल रही हूँ, ऐ ज़िंदगी तेरी कहानी मैं ख़ुद ही लिख रही हूँ। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरे लिए आज़ादी के असल मायने, अपने हिस्से की आज़ादी लेकर दूसरों को प्रोत्साहित करना!

आज तो हमारे संविधान में कई तरह की आज़ादी और लोगों के अधिकारों का ज़िक्र है मगर मैं पूछना चाहती हूँ, क्या उन अधिकारों को लोग आसानी से पा लेते हैं?

टिप्पणी देखें ( 0 )
महिलाओं के लिए जॉब और घर एक साथ संभालने के कुछ आसान टिप्स

जॉब के हेक्टिक शेड्यूल के बाद घर की देख-रेख करना मुश्किल लगता है, लेकिन अगर सब सिस्टेमेटिक तरीके से किया जाए तो ये कुछ आसान हो सकता है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
ससुराल में पहला दिन और रस्मों की कुछ खट्टी-मीठी यादें

ससुराल में पहला दिन'-ये शीर्षक पढ़कर मुझे अहसास हुआ कि ये दिन, किसी भी नई बहु के लिए एक परीक्षा से कम नहीं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
खुश रहना हमारे खुद के ही हाथ है

अब हम छोटी लड़कियों जितने अल्हड़ तो नहीं रह गए हैं, पर इतने उम्रदराज़ भी नहीं हुए हैं कि ज़िन्दगी से बेज़ार हो जाएँ।

टिप्पणी देखें ( 0 )
काश ऐसा हो कि हम अपने आप से हमेशा प्यार करें

काश कि हर महिला यह समझ पाती कि वह सिर्फ एक देह नहीं बल्कि बुद्धि‍, बल, विवेक का भंडार भी है। देह समाहित है हम में, हम देह में नहीं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
topic
%e0%a4%af%e0%a5%81%e0%a4%b5%e0%a4%be-%e0%a4%ae%e0%a4%b9%e0%a4%bf%e0%a4%b2%e0%a4%be%e0%a4%93%e0%a4%82-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b2%e0%a4%bf%e0%a4%8f
और पढ़ें !

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?