कार्यस्थल के मुद्दे
वो अनमोल पल नवोदय के – नई राह नई रौशनी!

पर जिंदगी में राहें कभी खत्म नहीं हुआ करतीं, हर अंधेरे के बाद एक नई रोशनी अवश्य ही जन्म लेती है, मेरे सपने ने जीवन की प्रकाश रूपी राह चुन ली है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या मैटरनिटी लीव वाकई मुफ्त की तनख्वाह है? क्या ये एक साधारण सा अवकाश है?

मैं काॅरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी के खिलाफ नहीं हूँ, लेकिन यदि आप अपनी सहकर्मी महिला के बच्चे की बेहतर देखभाल के बारे में अच्छा नहीं सोचते तो यह ढकोसला मात्र है।

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?