कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

हिंदी
भगवान् का होना, एक ज़रुरत या एक खुदगर्ज़ी, एक साज़िश

"भगवान् का होना तो ज़रूरी है, भगवान् न हो तो इंसानियत कैसे बिकवा पाएँगे?" प्रश्न है, 'क्या भगवान् का जन्म एक खुदगर्ज़ी, एक साज़िश है?'

टिप्पणी देखें ( 0 )
गौमाता

गौमाता के कितने भक्त! पर क्या इनमे से किसी को उसकी ज़रा सी भी फ़िक्र है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
डायरी का एक पन्ना-ज़िन्दगी, मुझे इंतज़ार है तुम्हारा

ज़िन्दगी तेरे उन लम्हों के नाम, जो इम्तिहान लेते हैं-"ज़िन्दगी जब भी मिलना, पूरी तैयारी से मिलना क्योंकि इम्तिहान इस बार तुम दोगी। जवाब इस बार तुम दोगी।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
उड़ने का साहस-हो अगर संग, तो साथ दो

जिंदगी की कई बारीकियों से तब मैं अंजानी थी-"जिंदगी बदलती है हर पल, पर न सोचा कि तू बदल जायेगा, ऐसे कैसे कोई अपना, सामने से पलट जायेगा?"

टिप्पणी देखें ( 2 )
क्यों मुस्कुरा रहे हो ऐ दोस्त? मैं, रुकने वाली नहीं

"आज एक अरमान दफ़न हुआ है, कल और ख़्वाब शहीद होंगे," पर मैं, रुकने वाली नहीं तब तक, जब तकअपने ख़्वाब को हक़ीक़त ना बना लूँ।

टिप्पणी देखें ( 0 )
महिला दिवस क्यों?

गर्भ में ससुराल में,भीड़भरे बाज़ार में, नारी को इंसान होने का ही प्रमाण नहीं, तो क्यों उस नारी को गर्वांवित कर महिला दिवस मनाऊ मैं?

टिप्पणी देखें ( 2 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020