कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

gharelu hinsa
जसविंदर संघेरा की किताब ‘डॉटर्स ऑफ़ शेम’ ने मेरी आँखें खोल दीं…

जसविंदर संघेरा कहती हैं कि बाहर बसे ये लोग ज़्यादातर भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश के थे, और ये नहीं चाहते थे कि उनके बच्चे अपनी मर्ज़ी से शादी करें। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं डरती हूँ तेज़ आवाज़ों से क्यूँकि उनसे ‘समझदारी’ की आवाज़ आती है…

जाने क्या था जो माँ को कभी समझ नहीं आया? "तू पागल है" वो समझा देना चाहते थे, ना मानने पर माँ के गले, कमर, बाजू, जांघों पर निशान थे, पापा की समझदारी के...

टिप्पणी देखें ( 0 )
उन दो कंगन ने आज जगाई जीने की एक नयी उम्मीद…

आज उसने ठान लिया था और वह अपने घर के मैले आसमान से निकल कर असली आसमान देखने को निकल पड़ी, आज उसे कोई नहीं रोक सकता था, ना समाज न गालियाँ! 

टिप्पणी देखें ( 1 )
रिलेशनशिप मैनेजर – 76वें दिन बाहर सन्नाटा था लेकिन एक घर में बस शोर ही शोर था…

बाहर भले ही सन्नाटा पसर गया लेकिन किसी के घर में बस शोर ही शोर था। लॉकडाउन के 76वें दिन कुछ हुआ था, क्या? आइए जानते हैं इस शॉर्ट फिल्म रिलेशनशिप मैनेजर में।

टिप्पणी देखें ( 0 )
घरेलू हिंसा अधिनियम क्या है और हमें इसके बारे में क्यों पता होना चाहिए?

घरेलू हिंसा अधिनियम क्या है और आज हमें इसके बारे में क्यों पता होना चाहिए और कितना कारगर है महिला सरंक्षण अधिनियम 2005, कुछ ऐसे प्रश्नों के जवाब आपके लिए। 

टिप्पणी देखें ( 2 )
कुछ नील निशान और उनको छिपाती हमारे अपने परिवारों की चुप्पी …

घरेलु हिंसा के ये स्वरुप चोट तो देते हैं पर निशान नहीं देते, और ये कभी सबके सामने बोले नहीं जाते क्योंकि यहां मज़लूम ही मुज़रिम करार दिया जाता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
post_tag
gharelu-hinsa
और पढ़ें !

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020