कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

gharelu hinsa
और अब बस! अब मैं नहीं कोई और डरेगा…

और फिर एक स्त्री के सिसकने की आवाज़ आई। ऐसी आवाज़ जो कभी बहुत पहले दर्द होने पर चीखी होगी लेकिन अब शायद उसे शारीरिक दर्द की आदत पड़ गई हो...

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब बस! बेटी शादी करेगी तो अपनी मर्ज़ी से…

बेटी आपकी मर्ज़ी से शादी तो कर लेगी पर वो ख़ुश नहीं रह पाएगी। रोहिणी चाहे तो आपके ख़िलाफ़ पुलिस कम्प्लेन भी कर सकती है पर उसने ऐसा नहीं किया।

टिप्पणी देखें ( 0 )
घरेलु हिंसा कभी किसी का ‘निजी मामला’ नहीं हो सकता…

हम सब को ये समझना है कि घरेलु हिंसा निजी मामला नहीं है बल्कि पुरुषवादी समाज की एक चाल है जिससे पीड़ित महिला को कोई मदद न मिल पाए।

टिप्पणी देखें ( 0 )
और अब बस कहने का समय आ गया था…

शादी की पहली रात, एक लम्बे इंतज़ार के बाद पतिदेव ने कमरे में लड़खड़ाते हुए कदम रखा। नमिता के तो डर के मारे होश उड़ गए।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरी कहानी में जिसे होना चाहिए था, बस वही नहीं था…

माँ ने जो सिखाया था वह वही करने की कोशिश करती लेकिन तब भी हर रोज कोई न कोई कमी निकल ही जाती और पति से भी हर रोज उसकी शिकायत होती।

टिप्पणी देखें ( 0 )
और एक आखिरी प्रयास किया मैंने रावण को समझाने का…

"जेठ जी! आप बड़े हैं इस तरह के कर्म आपको शोभा नहीं देते, मेरा मार्ग छोड़िए।" एक आखिरी प्रयास किया मैंने रावण को समझाने का...

टिप्पणी देखें ( 0 )
post_tag
gharelu-hinsa
और पढ़ें !

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020