कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

समाज
कर्म को धर्म मानने वाली, हमारी संस्कृति में कई सवालों के लिए जगह नहीं होनी चाहिए

जब आप किसी अस्पताल पहुँचते हो तो क्या धर्म देखकर डॉक्टर चुनते हो? उस पल बस आप यही चाहते हो कि डॉक्टर कोई भी हो, बस इलाज ठीक हो जाये।

टिप्पणी देखें ( 0 )
जामिया के छात्र और छात्राओं के साथ पुलिस का अत्याचार किस संस्कृति का उदाहरण?

दिसंबर 15, 2019 की शाम को शांति से विरोध प्रदर्शित कर रहे जामिया मिलिया के छात्रों को पुलिस ने बेरहमी से पीटा और इसमें महिला छात्रा भी मौजूद थीं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्यों एक तरफा तराज़ू नहीं बतलाता सही भाव है!

जहां इंसाफ का तराज़ू हमेशा एक तरफ झुका रहता है, उस समाज में कोई तरक्की, कोई समानता, कोई बदलाव आना नामुमकिन हैं, ऐसा समाज इंसानियत का दुश्मन है! 

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या ज़माने की दकियानूसी सोच आपकी सोच पर भी भारी पड़ जाती है?

तनिशा गहरी सोच में थी, बस वो सोच रही थी कि ऐसा क्या हो गया था कि बहनों के इस मज़बूत रिश्ते पर समाज की दकियानुसी सोच भारी पड़ गई।

टिप्पणी देखें ( 0 )
जब बात औरतों को डराने की हो तो, बलात्कार सबसे आसान विकल्प क्यों बन जाता है?

चाहे गलती हो या ना हो, किसी भी महिला को अपमानित करने के लिए उसके शरीर को इस्तेमाल करना सबसे आसान क्यों होता है, क्यों इतनी आसान है देनी बलात्कार की धमकी?

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरी नियत पर सवाल उठाने वालों से मेरा भी इक सवाल!

मेरी मेहनत और मेरी नियत पे सवाल उठाने वालो, कभी आइना देख लेना और बस एक सवाल पूछ लेना, कि मैंने सही किया? जो किया सो किया पर क्या वो सही किया?

टिप्पणी देखें ( 0 )
post_tag
%e0%a4%b8%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%9c
और पढ़ें !

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?