दोस्ती
ज़िंदगी के उतार-चढ़ाव में ऐसे रंग लाई हमारी दोस्ती

सखियां सोच रही थी कि शीतल से जब भी हम मिलते है तो ऐसी उदास नहीं रहती, चेहरा भी काला दिख रहा और ऑंखो में लाली छाई है, देखकर लग रहा है मानो कितना रोई हो।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ऐसा ही होता है रिश्ता दोस्ती का

मैं चाय बनाने जा ही रही थी कि वो बोल उठी मैंने चाय पीना छोड़ दिया है। उसकी हंसी से मुझे पता चल गया कि कितनी बेस्वाद चाय बनाती थी मैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
रंग लाई है दोस्ती

एक सुंदर वीणा जो मन में तान छेड़ती, लगता है दोस्त अपने बारे में बात कर रहे, इसका ही मतलब है, दोस्ती!

टिप्पणी देखें ( 0 )
इस मित्रता दिवस पर एक वादा ख़ुद से

एक वक्त ऐसा आया कि मुझे लगा कि ख़ुद से बात छेड़ के बहुत बड़ी गलती कर दी है मैंने। दुनियादारी में मैं व्यस्त था वही अच्छा था।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बचपन की ऐसी सखी की याद जो सिखा गई ज़िंदगी जीने का जज़्बा

मेरी यादों के बसेरे में एक बात अवश्‍य ही जुड़ गई दोस्‍तों, ज़िंदगी जीने का नाम है, मुर्दादिल क्‍या ख़ाक जिया करते हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
दोस्ती – एक अनोखा रिश्ता

हमने भी दोस्तों को सदियों से इस दिल में महफूज़ रखा है, दूरियों को मीलों से नहीं गहराईयों से नाप रखा है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
post_tag
%e0%a4%a6%e0%a5%8b%e0%a4%b8%e0%a5%8d%e0%a4%a4%e0%a5%80
और पढ़ें !

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?