कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Sherry

A writer by passion

Voice of Sherry

बिग बॉस 13 के सिद्धार्थ शुक्ला की जीत पर मैं खुश नहीं हूँ! और आप?

बिग बॉस 13 के सिद्धार्थ शुक्ला की जीत को देख कर लगता है कि लोगों ने एक बार फिर चेहरे को चुनते हुए कुछ अहम मुद्दों को नज़रअंदाज़ किया है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
तलाश में खुद की – ‘दिल में बेचैनियाँ लेकर चल रहे हो तो ज़िंदा हो तुम!’

तलाश कभी खत्म नहीं होती। कम से कम मेरी तलाश इतनी उम्र बीत जाने के बाद भी वहीं पर है जहां से शुरू की थी, लेकिन ये तलाश ही तो है जो हमें ज़िंदा रखती है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
डायरी का एक पन्ना-ज़िन्दगी, मुझे इंतज़ार है तुम्हारा

ज़िन्दगी तेरे उन लम्हों के नाम, जो इम्तिहान लेते हैं-"ज़िन्दगी जब भी मिलना, पूरी तैयारी से मिलना क्योंकि इम्तिहान इस बार तुम दोगी। जवाब इस बार तुम दोगी।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
ख्वाबों के सिमटते रंग

तेरे चांद की चांदनी में ऐ आसमान, मेरी जिल्द की परतें अब सुलगती हैं - चांदनी हो या चाहत, वक़्त के साथ सबके मायने ज़िन्दगी अनुसार बदल जाते हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
दृष्टिकोण – कुछ है या कुछ भी नहीं है

ना से बाहर आकर देखिए, ज़िन्दगी बहुत खूबसूरत है,  ये दुनिया बहुत खूबसूरत है - "हर रोज़ गिरकर भी मुकम्मल खड़े हैं, ऐ ज़िन्दगी देख मेरे हौसले तुझसे भी बड़े हैं।" 

टिप्पणी देखें ( 0 )
करवा चौथ – एक परंपरा जिसमें बदलाव की सख्त ज़रुरत है आज

करवा चौथ का त्यौहार मनाना ही है तो इसकी ज़िम्मेदारी सिर्फ महिलाओं पर ही क्यों? जब खानपान, रहन-सहन, रिश्ते नाते, सब बदल गया है, तो ये चीजें क्यों नहीं बदली? 

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020

All Categories