कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Shelly Gupta

Voice of Shelly Gupta

होली खेलने के नाम पर मर्यादा की सीमा ना पार करें

होली के नाम पर दूसरों के साथ गलत ना करें। ऐसा करने से त्योहार मनाने की सारी इच्छा ही खत्म हो जाती है। क्यों गलत व्यवहार से रिश्तों की मर्यादा खराब की जाए? 

टिप्पणी देखें ( 0 )
आप खुद सोचें, क्यों सबसे बड़ा गुनहगार है बेटी को पराया कहने वाला

पूरे मोहल्ले की नजरें झुकी थीं क्योंकि तकरीबन सभी का मानना था कि बेटियां शादी के बाद पराई हो जाती हैं, और अब कोई पुलिस में जाने की बात नहीं कर पा रहा था। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
नए माहौल में अपनी पहचान कैसे बनानी है, इसका फैसला हमसे से बढ़ कर कोई नहीं कर सकता!

अगर तुम उनके बिना खुशी से अपनी ज़िन्दगी गुज़ार सकती हो तो यहां वापस आ जाओ और अगर उनके बिना नहीं रह सकती तो वहीं रहकर अपनी जगह बनाओ।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ज़िन्दगी प्यार का गीत है, इसे हर दिल को गाना पड़ेगा

उसने गाड़ी एक साइड पर लगा दी और अपने पर काबू पाने की बड़ी कोशिश की, पर दिल था कि अब सुनने को तैयार नहीं था। उसकी आंखों से आंसू बहने लगे। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
प्यार और प्रायश्चित – आंखों में आँसू और लब खामोश! हाँ, अब यही मेरी सज़ा है

अगले दिन मैं शहर आ गया और बस से उतरते ही मेरा ऐक्सिडेंट हो गया। एक हफ्ता बेहोश था मैं और उस एक हफ्ते में मेरी ज़िंदगी बदल गई।

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक माँ की समझदारी – इज्ज़त दो, इज्ज़त लो!

मुग्धा पर तो मानो घड़ों पानी पड़ गया। उसे दिख तो रहा था कि सब तंग हो रहे हैं लेकिन अपनी ऐश-परस्ती में उसने किसी की कद्र नहीं करी।

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?