कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Shalini Pandey

Voice of Shalini Pandey

तुम आराम कर लो, बाकी काम मैं कर लूंगी…

रात में ही जेठानी जब कमरे में छोड़ने आई थी, तभी कह गई थी कि कल सुबह रसोई की रस्म है। सुबह जल्दी उठकर तैयार हो जाना।

टिप्पणी देखें ( 0 )
पल भर के हौसले ने मेरी ज़िंदगी बदल दी…

तभी राकेश अंकल पीछे से कब आये, उसे पता भी नहीं चला। वह रिया के पीठ पर हाथ से सहलाते हुए बोले, "अरे मैं तो हल्दी निकालना भूल ही गया था।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहू, मुझे तेरी वाली साड़ी चाहिए…

"अगली बार मैं आपके लिए बिल्कुल अपनी तरह ही साड़ी लाऊंगी। मम्मी जी, तब तो आपको पसंद आएगी ना?" यह बात शिप्रा ने मुस्कुराते हुए कही।

टिप्पणी देखें ( 0 )
काश! हम ना मिलते दोबारा…

पहला प्यार एक खूबसूरत एहसास होता है जिसे वह चाह कर भी भूल नहीं सकता, वह दिल के एक कोने में हमेशा साथ रहता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या बहू बुढ़ापे में हमारी सेवा करेगी?

रोहन के पिता ने नाराज होते हुए कहा, “तुम समझती नहीं हो, शहर की लड़की है, ऊपर से नौकरी भी करती है, वह बुढ़ापे में हमारी सेवा कभी नहीं करेंगी।”

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैंने अपनी बेटी का नाम पहले ही सोच लिया था…

हर महीने उम्मीद और ना उम्मीद के बीच नैना झूल रही थी। कभी टूट जाती तो फिर ईश्वर के प्रति विश्वास से एक बार फिर से उठ कर खड़ी हो जाती थी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
तुम्हारे मम्मी पापा ने तो कुछ दिया ही नहीं…

तभी प्रिया ने देखा ननद के हाथ में 'क्या-क्या नहीं मिला' उसकी एक पूरी लिस्ट है। प्रिया को यह सब देख कर, गुस्सा तो बहुत आ रहा था।

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या दीदी ने जीजाजी को डंडे मार कर भगा दिया?

"यह मेरा घर है, मैं यही रहूंगी, कहीं नहीं जाऊंगी, समझी? तुम्हारे जीजा जी को भगा दूंगी, नहीं जाएंगे तो डंडे मार के भगाऊंगी।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
तुम मेरे मम्मी-पापा को अपना क्यों नहीं मानते हो? 

"तुम परेशान ना हो, पर पहले मम्मी-पापा से तो पूछ लो और तुम्हें तो पता है ना कि आज बड़ी दीदी और जीजा जी पूरे परिवार के साथ आने वाले हैं?"

टिप्पणी देखें ( 0 )
अपनी बेटी के लिए मैं अकेली ही काफी हूँ…

मीरा का आत्मसम्मान तो शादी के कुछ महीनों बाद से ही छलनी होने लगा था पर वह अपनी बेटी के भविष्य लिए इतना सब कुछ बर्दाश्त कर रही थी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
और वह आज़ाद हो गई…

गौरी ने अपनी बेटी को कभी अपना दर्द ना बताया था, क्योंकि वह नहीं चाहती थी कि बेटी की खुशियों में मां के दर्द का साया भी पडे़।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अपनी पत्नी को मारने का हक़ तुम्हें किसने दिया…

रात को जब रागिनी कमरे के नज़दीक गई, तो उसे अपनी भाभी के रोने की और भाई के भाभी को गालियां देने की आवाज़ आ रही थी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
भाभी काश मैं आपको गलत ना समझती…

घर वालों के रोशनी को इतना सपोर्ट करने से रिया के दिल में अपनी भाभी के लिए नफरत बढ़ती जा रही थी। लेकिन उसकी सब बातें गलत साबित होतीं।

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020