कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Sarita Nirjhra

Co-Founder KalaManthan "An Art Platform" An Equalist. Proud woman. Love to dwell upon the layers within one statement. Poetess || Writer || Entrepreneur

Voice of Sarita Nirjhra

तुम भविष्य पैदा करने के लिए हो, खुद भविष्य का हिस्सा नहीं…

शादी हो जाये तब पत्नी का ख्याल रखने के नाम पर उसके दिमाग को घर की चार दीवारी में कैद करना और उसकी गलती पर उसे एक "जड़ देना"...

टिप्पणी देखें ( 0 )
फिल्म शेरनी आपको मिलाएगी ‘हाँ होता होगा’ की सच्चाई से!

अगर आप शेरनी के नाम पर विद्या बालन को शेरनी जैसा देखना चाहते हैं, तो मत देखिए फिल्म शेरनी, लेकिन कुछ कहानियां सच बयान करती है...

टिप्पणी देखें ( 0 )
बाहर वालों को हमारी फैमिली हमेशा खुश दिखनी चाहिए…

'हम साथ-साथ हैं' सा परिवार जो कि नामुमकिन के ज़रा नीचे है, हमें स्वीकार है किन्तु एक फैमिली के डिस्फंक्शनल किरदार देखने में गुरेज़ है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
संदीप और पिंकी फरार की परतों में छिपे हैं समाज के कई मुद्दे

फिल्म संदीप और पिंकी फरार में परिणीति पूछती है,"तुम लोग खुश कब होते हो बॉस? तुम देवता लोग। तुम, अंकल, मेरा बॉस तुम लोग खुश कब होते हो?"

टिप्पणी देखें ( 0 )
द फैमिली मैन सीजन 2 में छाई महिला किरदारों की छवि

द फैमिली मैन सीजन 2 में मनोज वाजपेयी जी की एक्टिंग की कला के बारे में क्या ही बोलेंगे लेकिन आदत से मजबूर मुझे कुछ महिला किरदार याद रह गए। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
ये समाज ठहरे पानी सा सड़ने लगा है पर तुम जलकुम्भी रहना…

भारत में सन 2019 में 32033 बलात्कार हुए यानि की एक दिन में 87 से भी कुछ ज़्यादा!फिकरे, जुमले, सीटियाँ, छेड़खानी आम है हिन्दुस्तान में।

टिप्पणी देखें ( 0 )
हर दिन की जाने वाली ये 18 बातें भी हिंसा का एक स्वरूप हैं…

सिर्फ किसी खास रिश्ते में मारा थप्पड़ ही घरेलू हिंसा नहीं है। हमारे समाज में हिंसा के स्वरूप कई प्रकार के हैं जिसमें हम और आप सब शामिल हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
सोचने और बोलने वाली स्त्री इस समाज को नहीं भाती…

कुल मिलाकर आज के संदर्भ में सभी अपराधों और समाजिक ढांचे मे होने वाली हलचल की वजह सिर्फ एक लगती है - सोचने व बोलने वाली स्त्री

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक नई दुल्हन की ख़ुशी से बढ़कर और क्या हो सकता है…

तब भी जितने मुंह उतनी बातें होती थीं। बिलकुल आज के सोशल मिडिया की तरह लाग लपेट कर बढ़ा-चढ़ा कर कहना। ये तब भी वैसा ही था।

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक थी अमृता – क्या आज किसी अमृता का साथ देने को हम तैयार हैं?

आज भले ही अमृता को मोहब्बत करने वाले बहुतायत में हैं किन्तु क्या उस अमृता को साथ मिला होगा? क्या आज भी हम 'एक थी अमृता' कह कर बहुत कुछ भूल रहे हैं?

टिप्पणी देखें ( 0 )
फेयर से तो हम आगे बढ़ गए, लेकिन लड़की हमें अभी भी लवली चाहिए…

संस्कारों का, यूँ कहिए कि एडिटिंग का डर है, वरना शुद्ध हिंदी में कुछ परोसने को जी चाहता  उनको, जो 'फेयर' मतलब 'ग्लो' के आगे नहीं सोच पाते।

टिप्पणी देखें ( 0 )
फिल्म गुलाबो सिताबो है मज़बूत महिला किरदारों की एक ज़बरदस्त फिल्म

फिल्म गुलाबो सिताबो में महिलाओं के हिस्से जितना भी है वो जबरदस्त और फिल्म की जान है, ये महिला किरदार आपको अक्ल के मामले में पुरुषों पर भारी दिखेंगे। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
कुछ नील निशान और उनको छिपाती हमारे अपने परिवारों की चुप्पी …

घरेलु हिंसा के ये स्वरुप चोट तो देते हैं पर निशान नहीं देते, और ये कभी सबके सामने बोले नहीं जाते क्योंकि यहां मज़लूम ही मुज़रिम करार दिया जाता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब इंसानियत का पाठ पढ़ाने सब आएंगे लेकिन…हम भी अलग कहाँ!

तकलीफ इस बात की नहीं कि हम अपने आप को सर्वोपरि मानते हैं बल्कि यह मानते मानते हमने अपना वजूद, अपनी इंसानियत, खो बैठे हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बस एक थप्पड़ ही तो मारा! – औरत हो, अब थोड़ा तो सहना सीखो!

बंद दरवाज़ों के पीछे नील-निशान की इतनी अनदेखी कहानियां छुपी हैं कि अगर सामने आ जाएँ तो देव संस्कृति के चोले में सड़ती गलती पितृसत्ता की सोच घृणित कर जाएगी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं लिखना नहीं चाहती : हर नर लगे गिद्ध और नारी मांस का टुकड़ा, कुछ और नहीं

शर्मिंदगी और हार का दर्द, बेबसी, घृणा और क्रोध जो भीतर कढ़ कर ज़हर बन गया है, मुझे हर नर में एक गिद्ध नज़र आता है, नारी में मांस का लोथड़ा, बस और कुछ नहीं

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं चाहूँ या ना चाहूँ अक्सर कुछ न कुछ छूट जाता है

औरतों से हर मुकाम पर खरा उतरने की उम्मीद सब रखते हैं, पर इन सब उम्मीदों का ख्याल रखते रखते क्या हम अपनी उम्मीदों का ख्याल रख पाते हैं?

टिप्पणी देखें ( 0 )
नाराज़ हूँ, दुःखी हूँ क्यूंकि मैं शर्मसार हूँ बेटियों के पैदा होने पर

आज सुबह हुई इस खबर से कि उन्नाव की पीड़िता इस दुनिया से चली गयी और जाते-जाते कह गयी, "मैं जीना चाहती हूँ और उन दरिंदो को फांसी से लटकते देखना चाहती हूँ।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
‘भारत माता की जय’ बोलने वालो, भारत माता की बेटियों को लूटना छोड़ो!

मंदिर, मस्जिद या राज्य की ज़मीन के लिए रातों रात कानून बना सकते हैं, लेकिन बेटी की अस्मत को यूँ ज़ार-ज़ार करने वाले हाथों को काट नहीं सकते!

टिप्पणी देखें ( 0 )
घरेलु हिंसा – रिश्ते की ऊँच-नीच, एक ढका-छुपा सच

घरेलु हिंसा एक सच है, और आश्चर्य यह कि हिंसा करने वाला दोषी तक नहीं समझा जाता और सहने वाला शर्मिंदगी में घुलता चला जाता है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
लोग क्या कहेंगे? सलीके से रहो!

ये सलीका सीखाने का अचूक अस्त्र था, "चार लोग क्या कहेंगे!" वैसे, ये चार एक साथ कभी सामने नहीं आए, किन्तु लाखों लड़कियों की जीवन दशा इनकी वजह से खराब थी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अच्छा! तो आपकी पत्नी कुछ नहीं करती, बस हॉउस वाइफ है!

कई बार ज़िक्र हुआ, कई बार बहस हुई, ढेरों लेख लिखे गए, लेकिन हर घर में कभी ना कभी ये ज़रूर सुनाई दिया है, "ये कुछ नहीं करती!"

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020

All Categories