कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

RASHMI SHUKLA

दिल में जज़्बात थे अपनी पहचान बनाऊं... अपनी कलम को अपनी आवाज़ बनाऊं...✍️

Voice of RASHMI SHUKLA

आज इन नज़दीकियों को बढ़ने दो…

आज सुप्रिया और अविनाश को एकांत में देखा तो राधा से भी रहा ना गया। पलों को एकांत में बिताने को सोच वो उत्पल के पास गई।

टिप्पणी देखें ( 0 )
और उसने शरमाते हुए जल्दी से हाँ कर दी…

ये तो बता कोई पसंद किया या तेरे लिए किसी बुड्ढे को देखूं? क्योंकि जवान तो तू रही नहीं। तीस की हो चली, पता नहीं कब शादी करेगी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ये बच्चा सिर्फ मेरा है और मेरा ही रहेगा…

डाक्टर रत्ना काफी गंभीर होकर कमरे की तरफ़ इशारा करती हैं। राधे अपनी पत्नी की आंखों में आसूं देख समझ नहीं पाता।

टिप्पणी देखें ( 0 )
शाम होते ही मां तेरी याद आई…

क्षितिज में डूबता सूरज देख, शाम होते ही मां तेरी याद आई। अपलक निहारती रहूं तुझे मां, दिल में छटपटाहट सी आई। शाम होते मां तेरी याद आई...

टिप्पणी देखें ( 0 )
बोलो तुमने बहु के साथ ऐसा क्यों किया…

सविता जी का तो अब पारा सातवें आसमान पर था। उन्होंने सुधा से बदला लेने की सोची और जल्द ही उन्होंने इस पर काम भी शुरू कर दिया।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरी अधूरी ख्वाहिशें

कासे कहूं अपनी ये बात, सांवरे ना हो सके मोरे आज, बंसी की धुन से जगाई जो आस, रह गई बस सांस में वो आस। कर दो इस जोगन की पूरी अरदास...

टिप्पणी देखें ( 0 )
चलो फ़िर से नई शुरुआत करते हैं!

शुरुआत करते हैं नये सहर की, भुलाकर पुराने यादों के पहर की। पुराने ख्वाब को खुद से भुलाकर, आज ख़ुद से नई मुलाकात करते हैं...

टिप्पणी देखें ( 0 )
तुम्हारी बहू गंवार है गंवार ही रहेगी…

क्या मम्मी, तुम भी किस गंवार को क्या समझा रही हो? एक हफ्ता हो गया समझाते हुए इस बात को उसको, अभी तक कुछ भी समझ में आया?

टिप्पणी देखें ( 0 )
सिर्फ़ एक दिन का सम्मान नहीं हिंदी दिवस

पूरी तबीयत के साथ ठूँसे हुए गुटखे को निगलते हुए मैनेजर साहब बोले, "कल मैडम जी इन्वाईटेड हैं। विदेश से आ रही हैं, कल हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में बोलेंगी।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
समाज की नज़रों में वो एक तलाकशुदा से ज्यादा और कुछ नहीं…

शादी में सुभ्रदा कहती हैं, "मैं अच्छे से जानती हूं इन तलाकशुदा औरतों को, खुद का घर बसता नहीं और दुसरों का घर तोड़ने में लगी रहती हैं।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
लोग सुनेंगे तो क्या सोचेंगे मेरे बारे में…

क्या आवाज़ है और रंग-रूप में तो किसी भी नई हीरोइन को मात दे सकती है। चाल तो ऐसी कि इसके आगे अच्छे-अच्छे फेल हो जायें।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अरे शादी के बाद सब ठीक हो जाएगा!

हमें शादी में कोई कमी नहीं चाहिए। सगाई की तैयारियां तो बिल्कुल भिखारियों की तरह करी थीं। नाक कटवा दी थी हमारी बिरादरी में तुम लोगों ने...

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020