कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Ritu Agrawal

मैं एक गृहिणी, माँ, कवयित्री और एक ब्लॉगर हूँ। मुझे कविता, कहानियाँ पढ़ना और लिखना बहुत पसंद हैं।

Voice of Ritu Agrawal

शिकायतें

क्यों न, हम अपने शिकायती मन का मौसम बदल लें।हर नकारात्मक बात में, सकारात्मकता को ढूँढ लें।थोड़ा सा दूसरे लोगों के प्रति रहमदिल हो लें।

टिप्पणी देखें ( 0 )
खुशियों का मोलभाव क्यों?

शिप्रा ने सोमेश को घूर कर देखा। गाड़ी में बेठ उसने बोला, “यह तुम क्या मोलभाव कर रहे थे काउंटर पर? शोरूम में कोई मोल-भाव करता है क्या?”

टिप्पणी देखें ( 0 )
माँ, अब आपकी बारी है…

अब जब आपकी बारी आई है तो आप अपनी ही दी हुई सीख से पीछे हट रही हो और आप तो ऐसे परेशान हो रही हो जैसे मैंने कोई पाप करने के लिए कह दिया हो।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बस कीजिए, मैं आपका कूड़ेदान नहीं हूँ…

अनीता जी का फोन आया। मैंने उठाया नहीं। एक बार, दो बार, तीन बार लगातार घंटी बजती रही। सिर दर्द से फटा जा रहा था ऊपर से फोन।

टिप्पणी देखें ( 0 )
चटनी: सचाई या सिर्फ़ एक कहानी?

एक अच्छी पटकथा, सधा हुआ निर्देशन, और जीवंत अभिनय इन सब से यह कहानी एक सशक्त महिला के किरदार को उजागर करती है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बेटा हो या बेटी, मुझे दूसरा बच्चा नहीं चाहिए…

रिया के लिए भाई ले आओ? अरे लड़का या लड़की पैदा होना इंसान के हाथ में थोड़े ही है। पर संस्कारवश वह कुछ नहीं कहती थी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ये टेस्टी और हेल्दी लौकी के ढोकले आपके बच्चों को भी बहुत पसंद आएंगें!

अगर आपके बच्चे भी लौकी के नाम से ही भाग जाते हैं तो आज मैं आपको स्वादिष्ट लौकी के ढोकले की रेसिपी बताती हूं जो उन्हें पूरा पोषण भी देंगे।

टिप्पणी देखें ( 0 )
कुछ लोग हिंदी बोलना पिछड़ेपन की निशानी क्यों मानते हैं?

अधिकांश लोग अपनी मातृभाषा पर गर्व करते हैं, पर हम हिंदी भाषी, न जाने क्यों हिंदी बोलने में इतनी हिचक और शर्म महसूस करते हैं?

टिप्पणी देखें ( 0 )
मम्मा, मैंने तो वही किया जो आप करती हो…

उसे बहुत गुस्सा आया पर वह खुद को शांत करके बोली, "बेटा आपने मुझसे पूछा भी नहीं और मुझे कुछ बताया भी नहीं, ये तो गलत बात है।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
मम्मा, महेश दादू ने मुझे चॉकलेट देने के बाद ‘बैड टच’ किया…

अगर नीति ने अपने बेटे शिवम को गुड टच और बैड टच के बारे में ना सिखाया होता तो क्या शिवम भी नितिन की तरह यौन शोषण का शिकार होता रहता?

टिप्पणी देखें ( 0 )
महिला सशक्तिकरण की सच्चाई…

असली महिला सशक्तिकरण तभी होगा, जब यह समाज हर लड़की को, अपने बारे में फैसला करने का, बराबरी का सम्मान और हक देगा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
महिला दिवस और मेरा शक…

महिला दिवस पर महिला-विकास के लिए, तुम्हारे ओजपूर्ण भाषणों के साथ, तुम्हारी उजली सी तस्वीरें हैं। पर तुम्हारे ही घर में, औरतों का...

टिप्पणी देखें ( 0 )
अजन्मी बेटी का इंतजार…

हाय रे यह समाज, जो बेटे को ही वंशबेल बढ़ाने वाला समझता है और बेटी को बोझ मानता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अपनी जगह तलाशती है हर स्त्री…

स्त्री खुश है या नहीं, कोई मायने नहीं रखता। आज भी स्त्री, गृहस्वामिनी की खुशी या दुख से, किसी को, कोई फ़र्क नहीं पड़ता।

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या बेटी के पहले पीरियड पर आपके साथ भी कुछ ऐसा हुआ?

बेटी का पहला पीरियड? तो तूने उसे पुराने बिस्तर पर सुलाया था न? अब उठते से उसका सिर धुला देना। उसे सारे नियम समझा देना। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्यों ये सारे नियम कानून मेरे लिए ही बने हैं…

एक स्त्री मांग भरे, मंगलसूत्र पहने, तभी लोग उसे थोड़ा बख्श देंगे, हाँ जी, किसी और की संपत्ति जो है, पुरुष इन नियमों के अधीन नहीं है, क्यों...

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब पछताए होत का, जब चिड़िया चुग गई खेत

लेकिन माँ का प्यार, पिता के दिए शब्दों के ज़ख्म नहीं भर सका। उस दिन के बाद से, ऋषभ अपने पिता मोहन के सामने बहुत कम जाता।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं कुछ नहीं करती हूँ

मैं सचमुच कुछ नहीं करती। बस अपना तन-मन जीवन झोंक देती हूँ। यही सुनने को, कि दिनभर क्या करती हूँ।

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020

All Categories