कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Neha chauhan

मै, एक सामाजिक लड़की हूँ जो पितृसत्ता को चुनौती दे एक ऐसा समाज बनाना चाहती हूँ जिसमे सभी को उनकी क्षमता और योगयता के अनुसार बराबर अवसर दिया जाए और सभी व्यक्तियों को समान रूप से समझा जा सके।

Voice of Neha chauhan

नया साल तो हर साल आता है पर….

पर नया साल तो हर साल आता हैं, फिर यह क्या नया और पुराना छोड़ जाता हैं। नया साल तो हर साल आता हैं, अमीरों को अमीरी की ओर ले जाता हैं, और गरीबों को उनकी अमीरी में वैसे ही कही नीचे दबा जाता हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
हम फिर से जीऐंगे, पर अपने लिए…

हम फिर से उठेंगे, एक समाज की इज्जत की तरह नहीं, एक बराबरी पाने वाले व्यक्ति की तरह, हम, फिर से जीएँगे, एक साधन की तरह नहीं, पर अपने लिए।

टिप्पणी देखें ( 0 )
वो कहते अब उम्र हो गई, शादी कर लो…

वो कहते अब उम्र हो गई, शादी कर लो ! मैं कहती... हर साल फीस भर, पापा की जेब खाली करना, उस जेब को भर,  पापा का मुझे गर्व कर देखना भी तो... अभी बाकी है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक सवाल मेरे मन में अक्सर आता है….

एक सवाल मेरे हृदय को बार-बार चुभाता है कि क्यों नहीं, ये समाज उस बहू को समझ पाताजो चाहती परिवार संग अपनी एक पहचान बनाना?

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020