अंशु शर्मा

मेरा नाम अंशु शर्मा है मेरा लिखना डायरी तक सिमित था। अब डायरी से बाहर लिखने की कोशिश है। आपको पसंद आयेगी तो प्लीज़ लाइक करे फालो करे

Voice of अंशु शर्मा

काबिलियत के रंग के सामने कोई और रंग कहाँ टिक पाया है कभी!

दुनिया मेरे रंग पर तरह-तरह की बात करती, दादी सिर पीट रही थी, पर मां और पिता जी की तो मैं ही  राजकुमारी थी, सबसे प्यारी राजकुमारी!

टिप्पणी देखें ( 0 )
ये प्यार की हथकड़ियां हैं पूरी ज़िन्दगी प्यार के बंधन में बंधने की सज़ा!

छोटी-छोटी बातें अहम होने से बड़ी हो जाती हैं। समझाने वाले अच्छे दोस्त हों तो टूटे रिश्ते जुड़ जाते हैं, और वहीं भड़काने वाले हों तो रिश्ते टूटते देर नहीं लगती।

टिप्पणी देखें ( 0 )
दिखावट के इस नक़ली ज़माने में क्या प्यार का कोई मोल नहीं?

सुबह सबके जाने के बाद धरा रोली का ध्यान रखती और रात को घर जाती। माँ भी रात का खाना धरा के परिवार के लिए बना देती जिससे उसे घर में ना बनाना पड़े।

टिप्पणी देखें ( 0 )
‘बड़े हमेशा ये ही कहते हैं’, ज़रुरत है तो बस इस प्यार को समझने की

हमें लगता है, 'बड़े हमेशा ये ही कहते हैं', पर ये ही प्यार है। उन्हें भी बच्चों के साथ समय बिताना अच्छा लगता है। उनका समय बच्चों की बातों ही में बीतता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
है रंग बदलती ज़िंदगी – जो सबके लिये हो सही, ऐसे फैसले लेने में क्या बुराई?

आज पता चला कि किसी भी बात को गम्भीर ना लेने वाली ताई जी, अंदर ही अंदर कितनी परिपक्व हैं। ताई जी का एक नया रूप देखने को मिल रहा था।

टिप्पणी देखें ( 0 )
सोशल मीडिया स्टेटस अपडेट – अवेलेबल! असल ज़िंदगी में, ना जाने कब से अनअवेलेबल

आज जिसे भी देखो सोशल मीडिया पर दिखावे में फोटो डालता है। वो और ना जाने कितने दुनिया को दिखाने में लगे है कि देखो, हम कितना सुखी जीवन जी रहे हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक इस घर की लड़की, एक दुसरे घर से आई! फिर शादी के बाद फर्क क्यों?

क्यों शादी के बाद भी रोली में बचपना दिखता था और राधा में सुशील बहु, जिससे पूरा घर संभालने की उम्मीद रहती? शादी के छः महिने तक राधा ससुराल ही रही, कुछ रस्में चल रही थीं, कुछ तीज, त्यौहार भी थे। वैसे तो राधा ने अपने घर में ज़्यादा काम नहीं किया था, पर ससुराल […]

टिप्पणी देखें ( 0 )
यह सही था या गलत पता नहीं, पर थीं ख्वाइशें अपनी-अपनी

हम वापस आ गए, पर समझ नहीं आ रहा था, यह सही था या गलत। हाँ, यह ज़रूर समझ आ रहा था कि दोनों की ख्वाइशें पूरी हो गई थीं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अंतर्मन की आँखें – निर्भर नहीं आत्मनिर्भर

नैना ने कहा वो नेत्रहीन है, पर सोचने के लिये दिमाग है। सारी ग्रन्थियाँ, और स्वाद, आवाज़, स्पर्श, सब अच्छे से महसूस कर सकती है वह।

टिप्पणी देखें ( 0 )
प्यार और अपनेपन से, दिल की डोर दिल तक

उम्मीद नहीं थी कि नील फोन पर अपनी पसंद की लड़की को चुनकर, उसके सामने रिश्ते का प्रस्ताव ले आएगा। सुजाता के लिये ये एक बहुत बड़ा धक्का था।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बचपन में ही बहुत कुछ छूट गया

बचपन में मुझे कभी भी पिताजी ने महंगी आइसक्रीम नहीं दी। कभी भी इतने रूपये नहीं थे। और जब थे, तब भी नहीं दिलायी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?