कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Charkha Hindi Feature Service

Voice of Charkha Hindi Feature Service

बाढ़ की तबाही के बीच महिला शौचालय और माहवारी की समस्या

बाढ़ में सबसे बड़ी समस्या महिलाओं और किशोरियों के लिए है, जिन्हें महिला शौचालय और माहवारी जैसी चीज़ों से समझौता करना पड़ता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
जलवायु परिवर्तन : बहू-बेटी के साथ हो रही यौन हिंसा का एक बड़ा कारण

बीते कुछ समय में यौन हिंसा और अपराध के ऐसे कई मामले सामने आये हैं, जहां पानी या शौचालय का अभाव उस घर की बेटी-बहू के रेप की वजह बन गया।

टिप्पणी देखें ( 0 )
पोषण वाटिका: महामारी में रोज़गार और पोषण का इंतज़ाम करती महिलाएं

महिलाओं का पोषण वाटिका के पीछे एक और उद्देश्य है, इनका मानना है कि कोरोना और आर्थिक संकट से निपटने के लिए केवल सरकार पर निर्भर रहना गलत है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मुख्यमंत्री कोसी मलवरी परियोजना: रेशम के धागों से अपनी पहचान बुनती महिलाएं

आज यह महिलाएं मुख्यमंत्री कोसी मलवरी परियोजना के तहत रेशम के धागों से अपनी पहचान बुन रही हैं, जिससे समाज में उनका सम्मान बढ़ा है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
कोकून की राखियां : जीविका से जुड़ी महिलाओं ने बनाई इको फ्रेंडली राखी

लेटेस्ट ट्रेंड में इको फ्रेंडली राखियां काफी पसंद की जा रही हैं। ऐसी ही कोकून से बनी ईको फ्रेंडली राखी बिहार की महिलाओं ने बनायी है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
महिलाओं के लिए नहीं बदले आज़ादी के मायने

सच्चे अर्थों में महिलाओं के लिए आज़ादी के मायने उस दिन बदलेंगे जब वह घर की चारदीवारी से लेकर बाहर तक स्वयं को आज़ाद महसूस करेंगी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ग्रामीणों को कोरोना से बचाने जुटी आदिवासी किशोरियां

ग्रामीण क्षेत्रों में समुदाय मिलकर रहते हैं। इन्हें प्रेरित करने के लिए उन्हीं के बीच से कोई जो इनकी भाषा व व्यवहार को समझता हो चाहिए।

टिप्पणी देखें ( 0 )
village girls
किशोरी बालिकाओं में कुपोषण की तरफ ध्यान देना है ज़रूरी

किशोरी बालिकाओं में कुपोषण होने के कारण वे आगे चलकर कई रोगों का कारक बन जाती हैं और उस पर लड़कियों के उपचार को गैर जरुरी खर्च माना जाना...

टिप्पणी देखें ( 0 )
ग्रामीण महिलाओं की पहुंच से दूर है स्वास्थ्य व्यवस्था

महामारी की परिस्थिति से हम अंदाज़ा लगा सकते हैं कि अभी भी ग्रामीण महिलाओं की स्वास्थ्य अवस्था के क्षेत्र में बहुत काम करने की आवश्यकता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
महिलाओं के सामूहिक प्रयास से दूर हो रहा है गाँव का कुपोषण

राष्ट्रीय सम्मान से नवाज़ गया ‘जय माँ दुर्गा महिला स्वसहायता समूह’ को, जो ग्रामीण लोगों का कुपोषण दूर करने के लिए 'रेडी टू ईट' आहार बनती हैं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
पहाड़ में महिलाओं का प्रसव आज भी भगवान भरोसे होता है

पहाड़ी क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं का दूर होना और समय पर उचित इलाज नहीं मिलना आज भी महिलाओं को प्रसव के दौरान पड़ता है भारी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
घरेलू हिंसा के खिलाफ आवाज़ बुलंद करनी होगी

हम सामाजिक बुराई से लड़कर, जागरूक होकर और महिलाओं के प्रति सम्मान की भावना उत्पन्न करके घरेलू हिंसा के खिलाफ काम कर सकते हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अंधविश्वास और वैज्ञानिक दृष्टिकोण में उलझता महिलाओं का निर्णय

बहरहाल वैज्ञानिक नज़रियों और अंधविश्वासों का झगड़ा तब तक चलता रहेगा जब तक देश के हर ग्रामीण इलाकों तक शिक्षा और सही सूचना नहीं पहुंच जाती है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या नाता प्रथा सच में लिव इन रिलेशनशिप का एक स्वरुप है?

कहने को तो यह नाता प्रथा महिलाओं को अधिकार देने और अपने पसंदीदा साथी के साथ जीवन जीने का अधिकार देने की बात करती है, लेकिन...

टिप्पणी देखें ( 0 )
बैंक सखी योजना : सिर्फ खेती नहीं बैंकिंग में भी चमक रही हैं ग्रामीण महिलाएं

बैंक सखी योजना से महिलाओं को रोजगार तो मिल ही रहा है साथ ही वह आत्मनिर्भरता की ओर स्वतंत्र रूप से अग्रसर हो रही हैं। आइये जानें कैसे। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मासिक धर्म में पहाड़ी किशोरियां आज भी इन चुनौतियों से जूझती हैं

मासिक धर्म एक जरूरी और प्राकृतिक प्रक्रिया है। इसको बारे में आडंबरों और गलत धारणाओं के कारण कई पहाड़ी किशोरियां परेशान हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
कुपोषण मिटाने के लिए महिलाओं ने पथरीली ज़मीन को बनाया उपजाऊ

रिपोर्ट के अनुसार भारत में 14 फीसदी लोग कुपोषण के शिकार हैं जबकि 37 फीसदी बच्चे अपनी उम्र के हिसाब से छोटे कद के हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
छत्तीसगढ़ के अरंड गांव के महिला कमांडो समूह ने गांव को बनाया नशामुक्त

छत्तीसगढ़ के अरंड गांव में जनवरी 2020 में महिला कमांडो समूह का गठन हुआ और तब से महिलाओं ने गांव में शराबबंदी को लेकर व्यापक मुहिम छेड़ दी है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
आज गांव तक महिला सशक्तिकरण को मज़बूत करने की ज़रूरत है!

देश में महिला सशक्तिकरण योजनाएं भले ही महिलाओं के स्वाभिमान में सहायक हों, लेकिन लिंगानुपात आंकड़े इन योजनाओं पर प्रश्न चिन्ह लगाते हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मशरूम की खेती बना रही है अनीता कुमारी जैसी कई ग्रामीण महिलाओं को आत्मनिर्भर

बिहार की कुछ महिलाएं हैं जिन्होंने मशरूम की खेती के माध्यम से न केवल आत्मनिर्भर हो रही हैं बल्कि अन्य महिलाओं के लिए भी उदाहरण बन रही हैं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
शर्म नहीं शक्ति का प्रतीक है माहवारी

माहवारी के दिनों में लड़कियों की शिक्षा बाधित हो जाती है क्योंकि इस दौरान उन्हें स्कूल या कॉलेज में सैनेट्री पैड उपलब्ध नहीं हो पाता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ललवाड़ी की राधा महिला सशक्तिकरण का एक बेमिसाल उदाहरण है!

देश की पहली एम.बी.ए शिक्षा प्राप्त सरपंच छवि राजावत को अपना आदर्श मानते हुए ललवाड़ी गांव की राधा आज उन्हीं की राह पर चल रही हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
पितृसत्तात्मक नियमों को चुनौती दे रही हैं राजस्थान की सोहिना जैसी कुछ लड़कियां…

राजस्थान की सोहिना जैसी कुछ लड़कियां आगे बढ़ कर अपने ही समुदाय में अशिक्षा और बाल विवाह जैसी कुरीतियों के खिलाफ अलख जगा रही हैं...

टिप्पणी देखें ( 0 )
इचलकरंजी गारमेंट क्लस्टर की महिलाओं ने बदला संकट को संभावनाओं में

जब कोरोना के समय कई उद्योग-धंधे संकट में थे, उस वक्त इचलकरंजी गारमेंट क्लस्टर की महिलाओं के पास अगले कुछ महीनों के लिए पर्याप्त काम थे।

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020

All Categories