Anshu Saxena

मैं एक लेखिका एवं समाजसेवी हूँ । मैंने काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से रसायनशास्त्र में MSc किया है । मैंने कई वर्षों तक अध्यापन कार्य भी किया है। मुझे अपनी अनुभूतियों को कविताओं , कहानियों एवं लेखों के माध्यम से व्यक्त करना अत्यन्त प्रिय है । लेखन मुझे अात्मसंतुष्टि प्रदान करता है ।

Voice of Anshu Saxena

मेरी हिंदी की गूँज विदेशी धरती तक – हिंदी मेरा अभिमान

हमारे जीवन में हमारी भाषा हिंदी का वही स्थान है जो ब्रम्हाण्ड में सूर्य का है, अर्थात हिंदी बोलने वालों की पूरी दुनिया हिंदी के इर्द-गिर्द ही घूमती है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
जीने की राह – अतीत की काली परछाइयों से निकल और आगे बढ़

राघव ने कई बार सुम्मी से मिलने की कोशिश की, परन्तु सुम्मी के पास समय नहीं है। वह अतीत की काली परछाइयों से निकल, जीवन पथ पर बहुत आगे निकल चुकी थी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक निर्णय ज़िंदगी की राह बदलने का

थोड़ी देर पहले ही उसने रोहित को किसी दूसरी महिला के साथ स्कूटर पर जाते देखा था। वह महिला रोहित के साथ ऐसे बैठी थी मानो वह उसकी पत्नी हो।

टिप्पणी देखें ( 0 )
जीवन की साँझ और एक अनजाना सा अक्स

अपना अक्स आइने में देख मैं अचानक चौंक पड़ी। अपना अनजाना सा अक्स आइने में देख मैंने एक निर्णय लिया और फिर अन्य कामों में संलग्न हो गई।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बेड़ियाँ तोड़ मुझे मिला आगे बढ़ने का हौसला

आपने ही मुझे ग़लत बातों से लड़ने का पाठ पढ़ाया। आपने ही मुझे आगे बढ़ने का हौसला दिया। आपके ही कारण मैं अपने पाँव में जकड़ी बेड़ियाँ तोड़ पाई।

टिप्पणी देखें ( 0 )
आँखों ही आँखों में कटी, नहीं भूलती वो रात

"आप सभी लोग बिलकुल परेशान न हों। आप अपना सामान साथ लीजिये और हमारे घरों में चल कर आराम करें। भोजन भी हमारे साथ ही हो जायेगा।"

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?