कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Anjali Sharma

I am an avid reader, wanderer, nature, music, art lover and a recycling enthusiast. A management graduate, I am a teacher at heart, a former Banking Professional and a mother of two.

Voice of Anjali Sharma

कब तक अग्निपरीक्षा सिर्फ मेरी होगी – मुझे आज जवाब चाहिए!

बैठे-बैठे सोच यूँ ही सोच आती है आज, सड़कों पर दुर्व्यवहार, घर में भेदभाव व्यभिचार, बस बातों के संस्कृति संस्कार, बुरा लगे जो करे प्रतिकार! क्यों? 

टिप्पणी देखें ( 1 )
कण कण में बसी क्षण क्षण में रची नारी तेरी ये कहानी!

बचपन बीता सकुचा सिमटा, यौवन आया नई आस लिए, आयी है पार झरोखों के, मन में स्वतंत्र उल्लास लिए नारी की विषम कहानी है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं भी मुसाफ़िर – सफ़र और मेरा रिश्ता कुछ ऐसा है जैसे रुई के फ़ाहे और बयार का

दूर तक फैले खेत, जंगल, हरियाली के मनोहारी दृश्य, जिन्हें कलाकार अपने चित्रों में उतारते हैं, आँखों के सामने दौड़ते तो मन रोमांच से भर जाता।

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?