कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Anjali

Voice of Anjali

मैं एक ऐसी बेटी हूँ जिसकी शादी तो हुई लेकिन कन्यादान नहीं…

"मेरे विवाह में कन्यादान की रस्म में पिता नहीं बैठे, बाद में उन्होंने कहा कि बेटी कोई सामान या दान की वस्तु नहीं", कहती हैं अंजली शर्मा। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
उलझी-सुलझी सी कुछ लड़कियाँ…

सपने देखा करती हैं कुछ लड़कियाँ, आसमान को बढ़तीं सीध अपनी नज़र लगा, कभी धरा पर धरी समतल, उलझी सुलझी सी कुछ लड़कियाँ।

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या सच में तुम कदम बाहर बढ़ा पाओगी? क्या तुम जी पाओगी?

'जो आज न बढ़ी तो कमज़ोर पड़ जाऊंगी, फिर माँ, दादी की तरह इस कुएं में तड़पती रह जाऊंगी', उस दिन मेरा अहम् जीता या उसका स्वाभिमान, नहीं जानता!

टिप्पणी देखें ( 0 )
आज मैं गर्व से कहता हूँ, मेरी बेटियां ही मेरी कमाई हैं!

घर में विवाह या उसके विषय में किसी प्रकार का उल्लेख भी नहीं किया जाता। हमेशा ऊँची उड़ान भरने और जीवन में कुछ बनने का ख़्वाब देखती दोनों बेटियां।

टिप्पणी देखें ( 0 )
गुलाबी-नीले रंग से लेकर ‘मर्द को दर्द नहीं होता’ का सफर…

,जब कोई लड़का हाथ उठाता है या कहीं हथियार उठाता है, तब उस बच्चे के सूखे आंसू बह जाने को मचलते हैं जब गुलाबी नीले रंगों में, बचपन बांटा जाता है!

टिप्पणी देखें ( 0 )
जब औरतों के सर उठते हैं, तो न जाने क्यों लोग घबराते हैं?

कहते रहे जो मुझे किसी की ज़रूरत नहीं, बस दो चार दिन में मिजाज़ बदले से नज़र आने लगते हैं? जब घर की औरतों के सर उठते हैं, तो न जाने क्यों लोग घबराने लगते हैं...

टिप्पणी देखें ( 1 )
क्यों राजकुमारी को नहीं चाहिए अपने सपनों का राज कुंवर…

क्यों रहती हूँ मैं बंद सजीले महल भवन में? न रोक सकेगा मुझको अब कोई रूढ़ि, धर्म, समाज, तोड़ दिए सब बंधन पहन साहस का चोला आज...

टिप्पणी देखें ( 1 )
बचपन सुहाना और अब तकनिकी ज़माना!

बचपन के दिन अधिक सुहाने और मनभावने होते हैं,  बचपन को जितनी खूबसूरती से जिया जा सकता है जीना चाहिए क्यूंकि बचपन दोबारा नहीं आता।

टिप्पणी देखें ( 1 )
कब तक अग्निपरीक्षा सिर्फ मेरी होगी – मुझे आज जवाब चाहिए!

बैठे-बैठे सोच यूँ ही सोच आती है आज, सड़कों पर दुर्व्यवहार, घर में भेदभाव व्यभिचार, बस बातों के संस्कृति संस्कार, बुरा लगे जो करे प्रतिकार! क्यों? 

टिप्पणी देखें ( 1 )
कण कण में बसी क्षण क्षण में रची नारी तेरी ये कहानी!

बचपन बीता सकुचा सिमटा, यौवन आया नई आस लिए, आयी है पार झरोखों के, मन में स्वतंत्र उल्लास लिए नारी की विषम कहानी है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं भी मुसाफ़िर – सफ़र और मेरा रिश्ता कुछ ऐसा है जैसे रुई के फ़ाहे और बयार का

दूर तक फैले खेत, जंगल, हरियाली के मनोहारी दृश्य, जिन्हें कलाकार अपने चित्रों में उतारते हैं, आँखों के सामने दौड़ते तो मन रोमांच से भर जाता।

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020