कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

एक बूंद

एक बूंद चिंगारी की, एक बूंद नफरत की, ढहलादे महलों के भी निवास, क्यों न दूरी दिलों की मिटाये?जो हो मानव का परम उल्लास।  

एक बूंद चिंगारी की, एक बूंद नफरत की, ढहलादे महलों के भी निवास, क्यों न दूरी दिलों की मिटाये?जो हो मानव का परम उल्लास।  

एक बूंद मिले पानी की,
तो प्यासे को भी आये आस,
एक बूंद रक्त की,
मरते को भी दे जीने की सांस।

एक बूंद प्यार की,
घोलती है शब्दो में रस,
एक बूंद करूणा की,
दीन का भी बढाती है विश्वास।

एक बूंद चिंगारी की,
बन जाती है ज्वाला,
अनल विनाश की।

एक बूंद नफरत की,
ढहलादे महलों के भी निवास।
बनने से पहले नफरत का ग्रास,
क्यों न एक कदम बढाए?

जो मानवता का हो उत्थान,
क्यों न दूरी दिलों की मिटाये?
जो हो मानव का परम उल्लास।

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

टिप्पणी

About the Author

Dr .Pragya kaushik

Pen woman who weaves words into expressions. Doctorate in Mass Communication. Media Educator Blogger and Communication Skills Expert. read more...

16 Posts | 41,367 Views
All Categories