कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

इस दीवाली कुछ अलग करते हैं!

समाज से अलग उनकी भावनाओं को भी जगह देते हैं, किसी का परिवार बनकर भी त्योहार मनाते हैं, तो किसी के अंधेरे घर को दीयों संग रोशन करते हैं...

समाज से अलग उनकी भावनाओं को भी जगह देते हैं, किसी का परिवार बनकर भी त्योहार मनाते हैं, तो किसी के अंधेरे घर को दीयों संग रोशन करते हैं…

चलो इस बार सबकी नहीं अपने दिल की सुनते हैं,
इस दीवाली अपनों के साथ-साथ गैरों संग भी करते हैं।
कुछ अपने और उनके दिल की भी सुनते हैं।

समाज से अलग उनकी भावनाओं को भी जगह देते हैं।
किसी का परिवार बनकर भी त्योहार मनाते हैं,
तो किसी के अंधेरे घर को दीयों संग रोशन करते हैं,
चलो इस बार कुछ अलग करते हैं।

अब की बार विदेशी सामानों का बहिष्कार कर,
स्वदेशी चीज़ों को अपनाते हैं,
किसी कुम्हार के जज़्बातों से बने दीयों को खरीदकर,
अपने घरों को और जगमग दीयों से सजाते हैं,
चलो इस बार कुछ अलग करते हैं।

इमेज सोर्स: Still from the ad Reliance Digital, Apne Apne Rishton Ki Boli, YouTube

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

80 Posts | 384,797 Views
All Categories