कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

महिलाएं सेक्स टॉय के इस्तेमाल से शर्माएं नहीं बस इनका सही उपयोग जान लें!

महिलाओं के लिए सेक्स टॉय! इनके फायदे क्या हैं, इनको इस्तेमाल करते समय किन बातों का रखें ख्याल, इन्हें ऑनलाइन कहाँ से खरीदें? जानिये सब!

महिलाओं के लिए सेक्स टॉय! इनके फायदे क्या हैं, इनको इस्तेमाल करते समय किन बातों का रखें ख्याल, इन्हें ऑनलाइन कहाँ से खरीदें? जानिये सब!

पहली बात, इस पोस्ट को पढ़ते हुए शर्माएं बिल्कुल नहीं!

सेक्स, कामुकता हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा है, जिससे जुड़े हर पहलू को जान लेने से आपको ही फायदा होगा। ये मत सोचिए कि आप इसमें अकेले हैं, बहुत से लोग आजकल अपनी कामोत्जेना पूरी करने के लिए सेक्स टॉयज़ का इस्तेमाल कर रहे हैं और इसमें कुछ ग़लत नहीं है।

सेल्फ प्लेज़र यानि ख़ुद को सुख का अनुभव कराने में कोई गिल्ट नहीं है। हम बात नहीं करते लेकिन सच तो यही है ना कि सेक्स हर इंसान और हर जानवर करता है। बतौर इंसान हमारे पास ये सुविधा है कि यदि हमारे पास कोई पार्टनर ना भी हो तो भी हम चरम सुख की प्राप्ति कर सकते हैं।

जैसे महिलाओं को अक्सर ऑर्गेज़्म तक पहुंचने में पुरुषों से अधिक समय लगता है इसलिए कई बार वो अपने पार्टनर से सेटिस्फाई नहीं हो पाती। कुछ महिलाएं तो यही समझ लेती है कि बस उनके पार्टनर का ऑर्गेज़्म हो गया तो उनका भी हो ही गया होगा लेकिन ऐसा नहीं होता। ऐसे में जाने-अनजाने में आप तनाव को न्योता देती हैं।

बात चाहे अपने पार्टनर से शारीरिक रूप से जुड़ने की हो या फिर सेल्फ प्लेज़र की, सेक्स टूल्स इस काम में आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। दरअसल, इसमें आप मास्टरबेशन ही करते हैं बस केवल टूल्स का उपयोग करते हुए।

“छी! गंदा है ये तो!”

ये सब बातें ज़ेहन में ना रखें। सेक्स टूल्स को आप अपने साथी के साथ या अकेले, जैसे भी चाहें वैसे इस्तेमाल कर सकते हैं। आजकल हम सभी स्ट्रेसफुल और बिज़ी लाइफ जी रहे हैं ऐसे में कामोत्जना और एक्साइटमेंट कम होने लगता है। लेकिन इन टूल्स से आप अपनी सेक्स लाइफ़ के साथ-साथ अपने शरीर की ज़रूरतों को एक्सप्लोर कर सकते हैं। तो आज हम आपको कुछ सेक्स टॉयज़ के बारे में विस्तार से बताएंगे।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

सेक्स टॉय (सेक्स खिलौने) के प्रकार(Sex Toys Type in Hindi)

वाइब्रेटर(Vibrator Sex Toy)

सबसे पहले आता है वाइब्रेटर जो महिलाओं की योनि में जाकर उन्हें एक्साइट करता है। इसकी कंपन से आपकी कामोत्जेना बढ़ जाती है। इस टूल की मदद से महिलाएं ऑर्गेज़्म का अनुभव ले सकती हैं।

कई बार पार्टनर के साथ संभोग करते हुए भी महिलाओं को ऑर्गेज़्म की अनुभूति नहीं होती है। ऐसे में वाइब्रेटर आपकी मदद कर सकता है। आपका पार्टनर नहीं है तो भी आप बिना यौन संबंध बनाए वाइब्रेटर से चरम सुख प्राप्त कर सकती हैं।

वाइब्रेटर की शेप पुरुषों के लिंग की तरह ही होती है। धीरे-धीरे इसकी डिमांड बढ़ रही है इसलिए अब तो ये कई साइज़ और रंगों में ऑनलाइन मार्केट में उपलब्ध है। कुछ बाइब्रेटर मैनुअल होते हैं और कुछ बैटरी के साथ चलते हैं।

दर्शिल्दो या डिल्डो(Dildo)

ये टूल मैनुअल होता है जिसका आकार वाइब्रेटर की तरह ही पुरुषों के लिंग जैसा होता है। ये प्लास्टिक, सिलिकॉन या फिर रबर का बना होता है जिसका काम महिलाओं के लिए वैसा ही होता है जैसा पुरुषों के लिंग का होता है।

कुछ डिल्डो स्टैंड के साथ आते हैं जिनपर बैठकर आप उनका प्रयोग कर सकते हैं और कुछ डिल्डो बेल्ट के साथ आते हैं जिनका प्रयोग गे पार्टनर महिलाएं आपस में करती हैं। एक डिल्डो को बहुत अधिक बार इस्तेमाल ना करें और कोशिश करें कि 3-4 इस्तेमाल के बाद नया डिल्डो ख़रीद लें।

सेल्फ प्लेज़र के लिए ये आपका साथी बन सकता है जिसे आप अपने आसानी से अपनी योनि में इस्तेमाल कर सकती हैं और वो भी बिना किसी रोक-टोक के।

ऑर्गेज़्म बॉल्स(Orgasm Balls)

ये  बॉल्स साइज़ में छोटे होते हैं लेकिन इनका असर प्रभावशाली होता है। इन्हें लव बॉल्स भी कहा जाता है।

योनि में इसके इस्तेमाल पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों में कंपन होती है जिससे कामोत्जेना बढ़ती है। ये मांसपेशियां मज़बूत भी करती हैं और आपको ऑर्गेज़्म का सुख भी देती हैं।

ये बॉल्स आमतौर पर जोड़े में आती हैं और कभी-कभी एक स्ट्रिंग के साथ जुड़ी होती हैं। ताकि उन्हें स्ट्रिंग की मदद से आसानी से बाहर निकाला जा सके।

ये बॉल्स अलग-अलग साइज़ में सिलिकॉन, प्लास्टिक या ग्लास से बनाई जाती है। इन बॉल्स को बिना बाहर निकाले भी आप वाइब्रेटर या डिल्डो के साथ भी इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि ये आपकी कामोत्जेना को बढ़ाने में और मदद करता है।

एनल टॉय (गुदा मैथुन)(Anal Sex Toy)

एनल सेक्स में आप योनि की जगह सेक्स टॉयज़ को एनल में इस्तेमाल करते हैं। कई महिलाओं को यह पसंद होता है लेकिन इसके लिए सबसे ज़रूरी ये है कि जब भी आप एनल में किसी टॉय का इस्तेमाल करें तो वह चिकनाईयुक्त हो।

आप बट प्लग, एनल बीडेड्स और एनल वाइब्रेटर का इस्तेमाल कर सकते हैं। एनल बीडेड्स में छोटी छोटी प्लास्टिक रबड़ की बॉल जुड़ी हुई होती है जिसे एक एक कर गुदा में प्रवेश करवाते है और थोड़ी देर गुदा में रखने के बाद इसे बाहर निकाल लिया जाता है।

इसका उपयोग साथी के साथ भी कर सकते हैं। बट प्लग एक तरह से प्लग के आकार का होता है। इसका ऊपरी सिरा बड़ा और चौड़ाई होती है जो पूरा गुदा में नहीं जाता है। यह गुदा उत्तेजना बढ़ने में मदद करता है इसका उपयोग अकेले भी कर गुदा मैथुन कर सकते है।

लिंग या सेक्स खिलौनों को गुदा में डालने से पहले टॉय पर लुब्रिकेंट लगा लेना चाहिए। चिकनाई होने से खिलौना गुदा में आसनी से प्रवेश करता है क्योंकि गुदा टाइट होती है।

सेक्स टॉयज से होने वाले फायदे (Benefits of Sex Toys in Hindi)

  • सेक्स टूल्स सिर्फ आपको चरम सुख नहीं बल्कि ये आपके स्वास्थ्य के लिए भी अच्छे होते हैं। सेक्स के बाद भी अगर आपको ऑर्गेज़्म नहीं हुआ है तो आप अपने साथी को कह सकती हैं या फिर ख़ुद वाइब्रेटर या डिल्डो की मदद से ऑर्गेज़्म प्राप्त कर सकती हैं। ये कई महिलाओं को क्लिटोरल ओर्गास्म और जी-स्पॉट ओर्गास्म तक पहुँचाने में भी यह मददगार साबित हो सकता हैं। ऐसा करने से आपका स्ट्रेस भी चला जाएगा और अच्छी नींद आएगी।
  • बाज़ार में सेक्स की क्षमता को बढ़ाने के लिए वाइग्रा, शीलाजीत जैसी कई दवाइयां मिलती है लेकिन उनके प्रयोग से कई बार शरीर में हॉर्मोनल डिस्बैलेंस होने का ख़तरा बना रहता है लेकिन सेक्स टूल्स से आपको ऐसा कोई भी साइडइफेक्ट नहीं होगा। आप यदि सावधानी से इनका इस्तेमाल करेंगी जो आपकी इम्युनिटी भी पढ़ेगी और कामोत्जना भी पूरी हो जाएगी।
  • सेक्स टॉयज़ महिलाओं में मेनोपॉज़ल लक्षणों जैसे वजाइना में दर्द, वल्वोडायनिया, स्कलेरोसस और को कम या सही कर देते हैं। सेक्स के बाद ऑर्गेजम तक पहुंचने से महिलाओं को सर्वाकल कैंसर से लड़ने में मदद मिलती है।
  • जिस तरह सेक्स करते हुए आपकी पेल्विक मसल्स काम करती हैं उसी तरह सेक्स टूल्स के इस्तेमाल से भी पेल्विक मसल्स को आराम मिलता है और वो मज़बूत होती हैं।
  • अच्छे लुब्रिकेंट और वाइब्रेटर के इस्तेमाल से वजाइना के हिस्से में अच्छा ब्लड फ्लो बना रहता है और आपकी योनि स्वस्थ रहती है।
  • महिलाएं और पुरुष अपने-अपने साथी के साथ इसका इस्तेमाल करते हैं तो उन्हें एक-दूसरे के शरीर और ज़रूरतों के बारे में जानने का मौका मिलता है और वे सेक्स के बारे में खुलकर बात कर सकते हैं।

सेक्स टॉय को साफ करना बेहद ज़रूरी

सेक्स टॉय को साफ करना आपके यौन स्वास्थ्य के लिए बेहद ज़रूरी है। इसलिए इनसे जुड़ी कुछ बातों का ख़्याल रखने पर आप ग़ैर-ज़रूरी इंफेक्शन से बच सकते हैं।

  • सेक्स टूल्स का इस्तेमाल करते हुए सबसे ज़रूरी बात ये है कि आप पैकेट पर लिखी सारी ज़रूरी जानकारी पढ़ लें। हर टूल को उपयोग करने से लेकर उसे कैसे धोया जाए तक सारी अहम जानकारी आपको पैकेट पर मिलेगी। एक-एक बात को ध्यान से पढ़ लें।
  • इन टूल्स से किसी तरह का इंफेक्शन ना हो इसलिए इस्तेमाल करने से पहले इन्हें किसी अच्छे साबुन या डिसइन्फेक्ट वॉश से एक-दो बार धो कर अच्छे से साफ़ करे लें। यूज़ करने के बाद भी उन्हें धोकर किसी साफ़ जगह पर ही रखें जहां धूल-मिट्टी या किसी भी तरह की गंदगी ना हो। ऐसा करने से आप किसी भी तरह के संक्रमण या बैक्टीरियल इंफेक्शन से बचे रहेंगे।
  • यदि आप मैले सेक्स टूल्स का उपयोग करते हैं तो यूटीआई, फंगल और बैक्टीरियल इंफेक्शन का ख़तरा हो सकता है।
  • सेक्स टूल एक-दो बार इस्तेमाल करने के बाद दूसरा ख़रीद लें क्योंकि बार-बार एक ही टूल इस्तेमाल करने से भी संक्रमण का ख़तरा बना रहता है।
  • कोशिश करें कि छेद वाले सेक्स टूल्स ना खरीदें क्योंकि उन्हें आप जितना भी साफ़ कर लें उनके छेदों में गंदगी जमा हो जाती है। हार्ड पोर्ज़ वाले सेक्स टूल्स जो सिलिकॉन, पीवीसी और स्टील और ऐसे किसी मटीरियल से बना टूल ही इस्तेमाल करें जो आपकी त्वचा को भी कोई नुकसान ना पहुंचाएं। हार्ड पोर्ज़ वाले टूल्स अधिक सुरक्षित होते हैं। इन्हें डिसइंफेक्ट करना भी आसान होता है। सॉफ्ट पोर्ज़ वाले टूल्स से आपको इंफेक्शन का ख़तरा बना रहता है। हाइजीन से करेंगे तो इंफेक्शन से दूर रहेंगे।

ये हैं सेक्स टॉय के कुछ ऑनलाइन स्टोर (Online Stores for Sex Toys in Hindi)

ये कुछ ऑनलाइन स्टोर हैं जहां आप अपने लिए बेझिझक सेक्स टूल्स चुनकर ऑडर कर सकते हैं

आजकल बहुत से लोग सेक्स टॉय का यूज़ करके अपनी सेक्स लाइफ़ को बेहतर बना रहे हैं। इसलिए आप अकेले नहीं हैं। सेक्स टूल्स के आने से लोग अपनी सेक्स लाइफ में कुछ ना कुछ नया ढूंढ पा रहे हैं।

एक ज़रूरी बात: यदि आप पहले से ही वजाइनल या किसी तरह के हेल्थ इजूश से जूझ रहे हैं तो एक बार सेक्स टूल्स का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से खुलकर बात कर लें।

इमेज सोर्स : Photo by Dessidre Fleming on Unsplash 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

127 Posts | 413,445 Views
All Categories