कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

कर्तव्य निभाएंगे!

लगा धक्का फिर एक बार, इस बार हुआ पहले से अधिक प्रहार।पर हम कर्तव्य निभाएँगे, ज़िम्मेदारी ली है तो तुम्हें सिखाएंगे।

लगा धक्का फिर एक बार, इस बार हुआ पहले से अधिक प्रहार।पर हम कर्तव्य निभाएँगे, ज़िम्मेदारी ली है तो तुम्हें सिखाएंगे।

शुरु होने को था सत्र नया,

पाठ्यक्रम भी था तैयार किया। 

कोरोना की आंधी आई, 

 मिट्टी में मिल गई मेहनत सारी, 

सब शून्य हुए। 

सब विचलित हो देख रहे थे इधर-उधर,

फिर सबने आवाहन किया,

Never miss real stories from India's women.

Register Now

माँ सरस्वती का नाम लिया।

सबको अब यह ज्ञान हुआ,

शिक्षक हैं इसका मान हुआ।

शिक्षक हैं हार कैसे जायेंगे? 

ज़िम्मेदारी ली है तो निभाएंगे। 

जूम हो या गूगल, पहुंचेंगे हम तुम तक।

नित नई खोज हैं करते, 

कैसे सीखोगे तुम इस सोच में रहते। 

फरवरी दो हज़ार इक्कीस का महीना आया,

नया बसंत फिर से मुस्काया। 

मन में एक उल्लास उठा, 

नए सत्र में मिलेंगे स्कूल में ये विश्वास जगा। 

पर नियति का खेल किसने है जाना,

कोरोना की दूसरी लहर का शुरु हुआ फिर से आना। 

लगा धक्का फिर एक बार, 

इस बार हुआ पहले से अधिक प्रहार।

पर हम कर्तव्य निभाएँगे, 

ज़िम्मेदारी ली है तो तुम्हें सिखाएंगे। 

कालिमा छंटेगी लालिमा छाएगी,

महकोगे तुम फिर से उपवन में,

बाहें खोले हम सब खड़े मिलेंगे, 

फिर से तुम्हारे अभिनंदन में। 

मूल चित्र: Classplus via Youtube 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

Maya Shukla

I am Maya Nitin Shukla. Mother of a son. Working as a teacher. "मैं इतनी साधारण हूं ,तभी तो असाधारण हूं" read more...

4 Posts | 45,113 Views
All Categories