कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

माँ, याद हैं ना वो दिन तुमको…

जब बेटी हुयी तब मैंने जाना क्यों तुम मुझ में अपने आप को खोजती थी, क्यों तुम इतने लाड से, इस रिश्ते को सींचती थी, क्यों मैं तुम्हारी...

जब बेटी हुयी तब मैंने जाना क्यों तुम मुझ में अपने आप को खोजती थी, क्यों तुम इतने लाड से, इस रिश्ते को सींचती थी, क्यों मैं तुम्हारी…

मम्मा याद है मुझे, पहली साड़ी तुम्हारी ही पहनी थी मैंने
तुमने ही पहनाई थी, तुम्हारी माँ की साड़ी थी
मजेंटा सिल्क पर सफ़ेद सीपियाँ सजी थीं

कितना संवारती सजाती रहती थी तुम मुझे हमेशा
जैसे तुम्हारी गुड़िया थी मैं
मेरी पतले घुंगराले बालों को मढ़ती रहती थीं तुम हेरस्टाइल में…कोशिश करती रहती थी
मेरी लिए कपड़े बनवाती रहती थी, एक से बढ़कर एक

मम्मा याद है मुझे, कैसे मेरी फरमाइशें पूरी करती थी तुम
देर सबेर सब ला देती थी
मैं बोल के भूल जाती थी
तुम भूल के भी नहीं भूलती थी

मेरी सबसे पक्की सहेली थी तुम
और तुम्हारी मैं
हम दोनों बातें करते थे, ढेरों बेहिसाब
मम्मा याद है मुझे, तुम मेरी कितनी तारीफ़ करती थी
जैसे जान फूकती थी मुझमें, रोज़ाना

मम्मा याद है मुझे, मेरी बिदाई में कितना रोई थी तुम
मुझसे भी ज़्यादा
जैसे कलेजे को अपने अलग कर रही थी खुद से
मुझसे अलग होकर जीना कहाँ सीखा था तुमने
और कहाँ सीखा था मैंने तुमसे दूर जाना

तुम्हारे बचपन की कहानियां जो तुम्हे ज़ुबानी याद थी
अब मुझे ज़ुबानी याद हैं
तुम इतनी बार सुनाती थी
मम्मा याद है मुझे, किस्से कहानियों का कितना शौक था तुम्हे
रज रज कर तुम बतलाती थी

मम्मा याद है मुझे, मेरी बेटी के जनम पर तुम अमेरिका आयी थी
कितनी खुश थी तुम, और तुमसे भी ज़्यादा मैँ
कि कुछ समय बिता पायी तुम्हारे साथ
शिकागो में तुम्हारा प्यार दुलार बरसा था मुझपर
कितने खुशकिस्मत थे वो दिन जो तुम्हारे आँचल में गुज़ारे

Never miss real stories from India's women.

Register Now

तब कहाँ समझती थी मैं ये बातें
कहाँ प्यार की गहराई नाप पाती थी
जब बेटी हुयी तब मैंने जाना
क्यों तुम मुझ में अपने आप को खोजती थी
क्यों तुम इतने लाड से, इस रिश्ते को सींचती थी
क्यों मैं तुम्हारा प्रतिबिम्ब थी
और तुम मेरी खुशियों की सूत्रधार

तुम कैसे चहकती थी मेरी हर एक कामयाबी पर
बलाएं ले लेती थी मेरी, मुझपे इतराती थी
कितना विश्वास रखती थी मेरी हर कविता पर
मम्मा याद है मुझे…

मूल चित्र : Still from Short Film Beans Aloo/Blush, YouTube 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

Daisy Bala

My name is Daisy and I’m a blog writer! I write whenever ideas crunch me and I like writing about anything under the sun! Visit my blog at freshdaisiesdotme.wordpress.com read more...

2 Posts | 1,402 Views

Other Articles by Author

All Categories