कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

सफ़ेद हो या काले, तिल खाने के फायदे क्या हैं?

तिल खाने के फायदे की बात करें तो, बचपन से हमने सुना है कि इसे खाने से पेट साफ रहता, बाल कम झड़ते हैं, पर तिल खाने के फायदे और भी हैं...

तिल खाने के फायदे की बात करें तो, बचपन से हमने सुना है कि इसे खाने से पेट साफ रहता, बाल कम झड़ते हैं, पर तिल खाने के फायदे और भी हैं…

तिल एक तरह की औषधी हैं जिसका उपयोग हमारे पूर्वज सालों से करते आ रहे हैं और आज भी किसी शुभ काम में इसका इस्तेमाल किया जाता है। तिल का उपयोग वैसे तो खाने से लेकर मिठाईयों तक सभी में होता है पर उत्तर और दक्षिण भारत में इसका एक अपना महत्तव है।

ठंड की शुरुआत से ही तिल डाल कर खाना खाने का रिवाज सालों से हमारे घरों में चला आ रहा है। मकर संक्रांति की तैयारी में सफेद और काले तिल का बड़ा योग्यदान रहता है। भारत में इनका उपयोग सबसे ज़्यादा होता है।

तिल होता क्या है? और तिल खाने के फायदे क्या हैं?(What is Til? Til Khaane Ke Fayde)

तिल एक पुष्पिय पौधा है, जिसकी ऊँचाई एक मीटर के करीब होती है, दुनिया के सभी गर्म देशो में इसकी खेती होती है। इसकी पत्तियाँ तीन से आठ ऊंगली तक लंबी होती है। इसके फूल गिलास आकार में होते है। भारत में इसकी खेती करीब 4000 वर्षो से हो रही है।

तिल के बीजो से खाद्ध तेल भी निकाला जाता है। वैसे तो यह वार्षिक तौर पर 30 से 60 से.मी. ऊँचा होता है। इसके फूल सफेद एंव बैगनी रंग के पाये जाते है पर कुछ मामलों यह काले बैगनी, नीले पीले रंग के भी हो सकते है।

तिल के प्रकार 

भारत में तिल दो प्रकार के होते है सफेद और काले। इनकी दो तरह की फसले उगाई जाती है- कुवारी और चैती। कुवारी फसल बरसात के वक्त उगाई जाती है और चैती कार्तिक के वक्त बोई जाती है।

सफ़ेद और काले तिल के फायदे

वैसे तो तिल के अपने फायदे हैं पर इसका स्वरुप तीखी, मधुर, स्वादिष्ट एंव गर्म तासीर का होता है और आयुर्वेद के अनुसार दोनों तिल के गुणों का वर्णन किया गया है। दोनों ही के अपने औषधीय गुण हैं पर सफेद तिल के मुकाबले काले तिल की औषधिक गुण ज़्यादा हैं।

अब तिल के फायदों के बारे में बात करते हैं वैसे तो बचपन से हमने सुना है कि इसे खाने से पेट साफ रहता, बाल कम झड़ते है। पर जितना हम जानते हैं, उतने ही फायदे हैं या और कुछ भी हैं?

Never miss real stories from India's women.

Register Now

कब्ज और बावासीर जैसी समस्या से निदान

सर्दियां में तिल का इस्तेमाल ज़्यादा किया जाता है क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है पर ठंड में यह शरीर को गर्म रखता है। काले तिल को चबा कर खाने के बाद ठंडा पानी पीने से बावासीर जैसी समस्या कम हो सकती है। तिल से बनी चीजों को खाने से कब्ज से राहत मिलती है।

सूखी खाँसी को रखे दूर

ठंड में खासी की समस्या आम है और यह ज़ल्दी न जाने वाली बीमारी है। इससे बचाव के लिए तिल के साथ मिश्री खायेँ तो आपकी खाँसी दूर हो जाएगी।

कान के दर्द दूर करे

तिल के तेल में लहसुन की एक कली डालकर हल्का गर्म कर कान में डालने पर कान का दर्द दूर हो जाता है और उसे शरीर में लगाने से शरीर का दर्द कम हो जाता है।

कम करे हार्ट अटैक बीमारी

तिल में मौजूदा मोनो-सैचुरेटड फैटी एसिड शरीर से बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और गुड कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता है। इससे हार्ट अटैक का खतरा कम होता है।

बाल के झड़ने की समय पर तिल के फायदे

बाल हम सभी को प्यारे होते पर उनका वक्त से पहले सफेद होना और झड़ना हमारे लिए एक बड़ी समस्या है। तिल के तेल का इस्तेमाल करने से बाल काले और झड़ने कम हो जायेगे।

चेहरे पर तिल के फायदे

तिल का पेस्ट लगाने से चेहरे की रौनक बढ़ जाती है। तिल के कुछ दाने दूध में डाल कर पेस्ट बना ले और उसका इस्तेमाल करने से चेहरे में रौनक आ जाती है। इसके अलावा आप तिल के तेल से चेहरे की मालिश करगे तो त्वाचा स्वस्थ रहेगी।

अभी तक आपने सिर्फ तिल के शारीरिक गुण पढ़े हैं पर यह सिर्फ शरीर को ही नही बल्कि दिमाग को आराम पँहुचाता है। तिल को सही मात्रा में खाने से चिंता, अवसाद, तनाव कम होता है और दिमाग चुस्त दुरुस्त रहता है। 

तिल के अनेक नाम

भारत में विभिन्न संस्कृतिया बसती है। उसी तरह हमारी भाषा भी हर 20 किलोमीटर पर बदल जाती है। भारत के विभिन्न राज्यों तिल के नाम भी अलग-अलग तरह से बोले जाते है-

उड़ीया- खसू

कन्नड़- एल्लू

गुजराती- तल तिल

तेलगु- नुव्वलु

तमिल- एब्लु नूव्वलु

बंगाली- तिलगाछ तिल

मलयालम- एल्लू

मराठी- तील तिल

तो देर किस बात की? जल्दी से तिल को अपनी ज़िन्दगी का हिस्सा बनाइये और इसके गुणों का फायदा उठाइये!

डिस्क्लेमर : यहां दी गयी जानकारी बहुत सामान्य है। अपने जीवन शैली में किसी भी बड़े बदलाव को लाने से पहले एक एक्सपर्ट की राय लेना ना भूलें। 


मूल चित्र: healthifyme.com

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

14 Posts | 45,533 Views
All Categories