कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

इस उम्र में ‘इंस्टा आंटी’ बनना अच्छा लगता है क्या…

Posted: जून 13, 2021

तभी उनकी दोस्त नलिनी दूर से आती दिखी। उसको देखते ही माला जी ने एक प्यारी सी स्माइल पास करी। पर ये क्या नलिनी तो दूसरे ग्रुप में चली गई।

रोज़ की तरह माला जी आज भी सैर के लिए आईं थीं पार्क में, “हैल्लो! सुलोचना जी कैसी हैं?” सुलोचना जी ने तो जैसे अनदेखा कर दिया। माला जी को लगा शायद सुना नहीं होगा और वो अपनी रूटीन एक्सरसाइज़ में लग गईं।

तभी उनकी दोस्त नलिनी दूर से आती दिखी। उसको देखते ही माला जी ने एक प्यारी सी स्माइल पास करी। पर ये क्या नलिनी तो दूसरे ग्रुप में चली गई। पर आज तक तो ऐसा हुआ नहीं फ़िर ऐसा आज क्या हो गया। ये सोचते-सोचते उन्होंने अपनी एक्सरसाइज़ पूरी करी और घर को निकल लीं। हाँ आते-जाते कई और पहचान के दिखे पर सभी का रवैया एक सा लगा।

खैर! माला जी को बात तो समझ ना आई और वो ज्यादा अपना दिमाग खराब भी नहीं करती थीं ऐसे मसलों में। घर आते ही माला जी ने रोज़ की तरह अपने फिट रहने वाले रुटीन को पूरा किया और लग गईं अपने आफिस के काम में।

माला जी के परिवार में बस एक बेटा और बहू थे जोकि अब विदेश में बस चुके थे। कई बार साथ चलने को बोला पर मानिक जी की यादों ने उनका साथ ना छोड़ा। मानिक जी को भी गए अभी दो साल ही हुए हैं। शुरू-शुरू में तो माला जी को उनके बिना रहने में बहुत परेशानी हुई।

पर जबसे उनकी पोती वाणी ने उन्हें इंस्टाग्राम चलाना सिखाया। तब से तो उनकी लाइफ बदल गई। माला जी ट्रेंड डांसर तो थी हीं पर अपनी घर गृहस्थी में रह वो भूल चुकी थीं। इंस्टाग्राम पर लोगों को देखकर उनके मन में भी ख्याल आया क्यूं नहीं अपने पैशन को फिर से जिया जाए।

बस फिर क्या था इंडो वेस्टर्न का फ्यूजन कर एक दिन एक वीडियो अपलोड कर ही दिया और देखते देखते लोगों के जबरदस्त लाइक्स और कमेंट्स उन्हें मिलने लगे। बस यहीं से लोगों के बदलते चेहरे आज दिखने लगे थे पार्क में जो माला जी समझ ना सकीं।

अभी आफिस का काम चालू ही किया था कि उनकी सहयोगी रमा का फोन आ गया, “अरे! माला ये क्या डाला है वीडियो? मेरी पोती ने दिखाया। दिमाग खराब है क्या? इस उम्र में ये सब अच्छा लगता है क्या? पूरे आफिस के लोगों के बीच में बातें चल रहीं कि माला जी का मानसिक संतुलन बिगड़ गया है।”

तब जाकर माला जी को समझ में आया लोगों का पार्क में बदला हुआ स्वभाव। पर मैंने ऐसा क्या ग़लत कर दिया जो लोगों को बुरा लग रहा। क्या मुझे अपने हिसाब से जीने की स्वतंत्रता नहीं है। रमा की बातों को अनसुना कर माला जी अपने काम में लग गईं।

सभी काम समाप्त कर उन्होंने आज फिर अपनी पसंद के वीडियो बनाकर अपलोड कर दिए। पिछली बार की तरह इस बार भी बहुत सारे कमेंट्स आए। यही नहीं लोगों ने उनके जज्बे की तारीफ भी करी।

दूसरे दिन पार्क में माला जी ने किसी की तरफ बिना ध्यान दिए और समय गंवाए अपनी एक्सरसाइज़ करी और घर की तरफ रवाना हुईं। आफिस जाकर उन्होंने लोगों के कमेंट्स पर ध्यान ना देकर अपने काम में व्यस्त रहना ज्यादा अच्छा समझा। तभी उनके बॉस ने बाहर आकर माला जी की सबके सामने तारीफ कर डाली।

माला जी को तो विश्वास ही नहीं हो रहा था। उनके बॉस ने बोला, “हमें लगता है हमारी उम्र हो गई तो हम जीना छोड़ दें। या कुछ करना चाहा तो ये सोचकर शांत हो गए की समाज क्या सोचेगा। पर माला जी ने दिखा दिया यदि हम समाज का ध्यान देंगे तो जिएंगे कब। यही जज्बा उनके वीडियोज़ में भी दिखता है।”

माला जी बहुत खुश थीं आज अपनी जिंदगी में उठाए इस कदम को लेकर। वैसे भी इंस्टा पर वो इंस्टा आंटी के नाम से जो फेमस हो चुकी थीं।

उम्र कुछ भी हो पर यदि जज्बा कुछ कर दिखाने का हो तो वहां उम्र का बहाना ना रखिए। अपना पैशन किसी भी उम्र में दिखा सकते हैं। सिर्फ ये सोचकर बैठे रहना दुनिया क्या सोचेगी से आप खुद को डिमोटिवेट करेंगे। इसलिए अपनी उम्र को खुलकर जिए क्योंकि ये ज़िंदगी ना मिलेगी दोबारा।

मूल चित्र: Still from AmazonVia YouTube 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020