कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

बाकी सब तो वैसा का वैसा ही रहेगा…

Posted: जून 10, 2021

पिता कैसे अपने कलेजे को छलनी होने से रोक पाएगा, ज्यादा कुछ नहीं बस वह अपनी बेटी के घर का मेहमान हो जाएगा, बाकी सब वैसा का वैसा ही तो रहेगा।

नाम बदलेगा,
गाँव बदलेगा,
शहर बदलेगा,
यहां तक की प्रदेश भी बदल जाएगा।
ज्यादा कुछ नही बस पहचान और पता ही तो बदलेगा,
बाकी सब वैसा का वैसा ही तो रहेगा।

दर्द वही रहेगा,
सहना भी रोज की तरह ही होगा,
कुछ भी तो नहीं बदलेगा।
सहनशीलता की सीमा को थोड़ा ओर बढ़ाना होगा,
ज्यादा कुछ नही बस खामोशी से ही हर आँसू भी पीना होगा,
बाकी सब वैसा का वैसा ही तो रहेगा।

ना तो कोई माँ की तरह बिस्तर पर खाना लाएगा,
ना ही पापा की तरह कोई सुबह की सलाह देने वाला होगा,
अंदर से रहकर अकेला, ओरों के सामने हँसना होगा।
ज्यादा कुछ नही बस अपना वजन खुद को ही उठाना होगा,
बाकी सब वैसा का वैसा ही तो रहेगा।

सारे अरमानों की करके हत्या, इल्जाम खुद पर ही लगाना होगा।
बेबस चीखती जुबान को मन ही मन में दफ़न करना होगा।
ज्यादा कुछ नही बस जिम्मेदारियों का भार थोड़ा ओर बड़ जाएगा,
बाकी सब वैसा का वैसा ही तो रहेगा।

प्रभाकर का उदय भी प्रतिदिन ही होगा,
चाँद की चमक भी कायम रहेगी,
तुम्हारी सुबह की धूप में हमारा साया नही होगा,
कहानी भी तो वहीं रहेगी,
ज्यादा कुछ नही बस दिल के जज्बातों का सौदा हो जाएगा,
बाकी सब वैसा का वैसा ही तो रहेगा।

मैं तो आज की नारी हूँ,
आँसुओं को पलकों पर ही छुपाने का हुनर रखती हूँ,
मगर वो कल का पिता कैसे अपने कलेजे को छलनी होने से रोक पाएगा,
क्या वो पेड़ की टहनी को कटते देख पाएगा,
ज्यादा कुछ नहीं बस एक पिता अपनी बेटी के घर का मेहमान हो जाएगा।
बाकी सब वैसा का वैसा ही तो रहेगा।


मूल चित्र: Tanishq Jewellery Via Youtube

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Author✍ Student of computer science Burhanpur (MP)

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020